DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

तीसरे मोर्चे को समर्थन नहीं: प्रधानमंत्री

चेन्नई में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने तीसरे मोर्चे को समर्थन देने के भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी(भाकपा)के महासचिव एबी बर्धन के कांग्रेस से आह्वान को शनिवार को यह कहकर खारिज कर दिया कि मोर्चा अभी अस्तित्व में नहीं आया है। इसलिए इसपर विचार नहीं किया जा सकता है। प्रधानमंत्री ने संवाददाता सम्मेलन में भाकपा महासचिव के बयान को काल्पनिक करार देते हुए कहा कि हम कांग्रेस नीत सरकार के गठन का प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि एबी बर्धन के सुझाव पर कोई चर्चा करने की जरूरत नहीं है क्योंकि कांग्रेस ही काम करने वाली सरकार दे सकती है। प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा कि संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग)के सहयोगियों के बीच खासकर राष्ट्रीय जनता दल (राजद)के लालू प्रसाद यादव और लोक जनशक्ित पार्टी (लोजपा) के रामविलास पासवान के साथ कोई मतभिन्नता नहीं हैं। शुक्रवार को हुई मंत्रिमंडल की बैठक में रेल मंत्री लालू प्रसाद यादव और रामविलास पासवान के शामिल न होने के बारे में पूछे जाने पर प्रधानमंत्री ने मीडिया पर मामूली मुद्दे को अत्यधिक तूल देने का आरोप लगाते हुए कहा कि वे पूर्व निर्धारित कार्यक्रमों की वजह से नहीं आ सके। केन्द्रीय गृह मंत्री पी चिदंबरम भी बैठक में भाग नहीं ले सके। वह चुनाव प्रचार में व्यस्त हैं। मनमोहन सिंह ने कहा कि इसके यादा अर्थ नहीं लगाए जाने चाहिए। कभी-कभी बहुत कम समय की सूचना पर मंत्रिमंडल की बैठक बुलाई जाती है और मंत्रियों के पहले से कार्यक्रम निर्धारित होते हैं। उन्होंने कहा कि चिदंबरम और मणिशंकर अय्यर भी शुक्रवार की बैठक में नहीं आ सके। इसका मतलब कोई असहमति नहीं है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: तीसरे मोर्चे को समर्थन नहीं: प्रधानमंत्री