DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मेरिट नहीं परीक्षा के जरिए होगा एमबीए में प्रवेश

उत्तर प्रदेश राजर्षि टंडन मुक्त विश्वविद्यालय (यूपीआरटीओयू) में मास्टर ऑफ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन (एमबीए) में दाखिला अब प्रवेश परीक्षा के जरिए होगा। पिछले वर्ष यूपीआरटीओयू ने मेरिट के आधार पर प्रवेश लिया था। दूरस्थ शिक्षा परिषद ने एमबीए में प्रवेश परीक्षा के जरिए लेने की व्यवस्था बनाई है। इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय (इग्नू) भी एमबीए के लिए प्रवेश परीक्षा करवाता है। इसकी अनुमति के लिए शासन को पत्र भी लिखा गया है।

मेरिट के आधार पर प्रवेश लेने के कारण काफी संख्या में ऐसे लोग प्रवेश से वंचित हो जाते थे, जिन्हें स्नातक में 50 प्रतिशत से कम अंक मिले हैं। मेरिट में उन्हीं को लिया जाता था, जिनके 50 प्रतिशत या उससे अधिक अंक होते थे। प्रवेश परीक्षा में ऐसी बाध्यता नहीं होगी। 50 प्रतिशत से कम अंक पाने वाले भी परीक्षा में शामिल हो सकेंगे। प्रवेश के लिए कट ऑफ मार्क तय किया जाएगा। जो परीक्षार्थी इस कट ऑफ मार्क को प्राप्त करेगा, उसे प्रवेश मिल जाएगा। कुलपति प्रो. नागेश्वर राव ने बताया कि 2008-09 में उन्होंने परीक्षा के जरिए प्रवेश लिया था पर परीक्षा में काफी कम लोग शामिल हो सके थे। इस कारण 2009-10 में मेरिट से चयन की व्यवस्था लागू की गई थी। अब दूरस्थ शिक्षा परिषद ने परीक्षा के जरिए ही प्रवेश लेने के लिए कहा है इसलिए परीक्षा करवाई जाएगी।

प्रो. राव का कहना है कि मुक्त विश्वविद्यालय से एमबीए करने वाले काफी लोग उस समय से पास आउट हैं, जब 50 प्रतिशत अंक बड़ी मुश्किल से मिला करता था। मेरिट के कारण योग्य होने के बावजूद ऐसे लोग प्रवेश से वंचित हो जाते थे। परीक्षा के जरिए प्रवेश की व्यवस्था में इन्हें भी मौका मिलेगा। प्रो. राव ने बताया कि एक-दो महीने में एमबीए में प्रवेश की प्रक्रिया प्रारंभ हो जाएगी।


अफसर, डॉक्टर भी हैं यहाँ के छात्र
यूपीआरटीओयू एमबीए और एमबीए-एआरएम (एग्रीबिजनेस एण्ड रूरल मैनेजमेंट) का पाठ्यक्रम संचालित करता है। कई आईएएस और पीसीएस अफसर भी यहां से एमबीए कर चुके हैं और कर भी रहे हैं। वर्तमान में कानपुर में तैनात आईएएस अफसर अमृत अभिजात ने इलाहाबाद में तैनाती के दौरान एमबीए में प्रवेश लिया था तो निवर्तमान डीएम राजीव अग्रवाल ने भी यहां से एमबीए किया है। एसडीएम महेंद्र प्रसाद सहित कई अन्य अधिकारियों ने यूपीआरटीओयू से प्रबंधन की शिक्षा प्राप्त की है। शहर के जाने-माने न्यूरोलॉजिस्ट डॉ. कार्तिकेय शर्मा ने भी यहां से एमबीए किया है। ऐसे लोग भी हैं, जिन्होंने सेवानिवृत्त होने के बाद एमबीए की शिक्षा प्राप्त की।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मेरिट नहीं परीक्षा के जरिए होगा एमबीए में प्रवेश