DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

खामियों को जांचने निकली शिक्षा विभाग की टीम

नए शिक्षा स्तर से अभिभावकों की मर्जी के अनुसार बच्चों के लिए कॉपी, किताबें और यूनिफॉर्म किसी भी दुकान विशेष से खरीदने के आदेश चंडीगढ़ प्रशासन के शिक्षा विभाग ने दिए थे। स्कूल प्रबंधन अभिभावकों को सिर्फ किताब की लिस्ट दे सकता है, न कि किसी खास दुकान से खरीदने के लिए कह सकता है। दाखिले के दिनों में स्कूलों में यूनिफॉर्म या किताबें बेचने की दुकानें खोलने पर भी पाबंदी लगाई हुई है। इन आदेशों की पालना न करने वाले स्कूल प्रबंधकों के खिलाफ पुलिस में जबरन वसूली का केस दर्ज करवाने की बात भी कही गई थी। लेकिन फिर भी कई स्कूल इन आदेशों की अवहेलना कर रहे हैं, जिनकी शिकायत शिक्षा विभाग के अधिकारियों को भी मिली थी। इस शिकायत के आधार पर वीरवार को शिक्षा विभाग की तीन टीमों ने शहर के 12 निजी स्कूलों का दौरा कर खामियों की जांच की।

जांच टीम अपनी फैक्टस फाइंडिंग रिपोर्ट जल्द ही गृह व शिक्षा सचिव को सौंपेगी। इस रिपोर्ट के आधार पर ही आगे की कार्रवाई की जाएगी। वीरवार को पहले दिन ही गाड़ी व कैमरामैन न उपलब्ध होने के कारण दौरे का कार्यक्रम 1 बजे आरंभ किया गया। जिस कारण टीम के सदस्यों को विभाग के बाहर कई घंटों तक इंतजार करना पड़ा। उल्लेखनीय है कि दाखिले के दिनों में कुछ स्कूल परिसर में भी बुक स्टॉल्स व यूनिफॉर्म सप्लाई करने वालों को जगह दे देते हैं। अभिभावकों की यह शिकायत रहती है कि इन दुकानों से किताबें व अन्य सामान मार्केट रेट के मुकाबले महंगे होते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:खामियों को जांचने निकली शिक्षा विभाग की टीम