DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नए कलेवर में होगी यूजीसी-नेट की परीक्षा

शिक्षण संस्थानों में बड़े फेरबदल के बीच अब लेक्चरर बनने की राह में भी कई बड़े बदलाव किए जा रहे हैं। जून में होने वाली यूजीसी-नेट की परीक्षा में ये बड़े बदलाव देखने को मिलेंगे। इसके तहत पेपर-3 में अमूलचूल परिवर्तन किया जा रहा है। हालांकि इस पेपर के सेक्शंस पहले की तरह अब भी 4 ही होंगे, लेकिन इसके तहत पूछे जाने वाले सवालों और उनकी शब्द सीमा में बदलाव किया जा रहा है। इसमें एक सेक्शन परीक्षार्थी के स्पेशलाइजेशन पर केंद्रित होगा। पूछ जाने वाले प्रश्न सिलेबस से बाहर का भी हो सकता है।

दिसंबर की नेट परीक्षा में इससे पहले एक परिवर्तन की शुरुआत की गई थी। इसके तहत पेपर-टू में निगेटिव मार्किग की शुरुआत की गई थी। यूजीसी-नेट की परीक्षा 27 जून को होनी है।

यह होगा बदलाव
सेक्शन एक में अब एक बड़े निबंध की जगह 20-20 अंकों के दो निबंध (अधिकतम शब्दसीमा 500) लिखने होंगे। यह निबंध इलेक्टिव्स पर आधारित होगा। विज्ञान के विषयों जैसे कम्प्यूटर एप्लीकेशंस, इनवॉयर्नमेंटल साइंसेज, इलेक्ट्रॉनिक साइंस आदि में निबंध की जगह 20-20 अंक के दो सवालों का जवाब देना होगा।

सेक्शन दो में यह पूर्णत: स्पेशलाइजेशन पर केंद्रित होगा। इसमें 300 शब्दसीमा के 3 सवालों का जवाब देना होगा। ये सभी 15-15 अंकों के होंगे। इसमें दिए गए विषय पर अपनी बात रखने और तर्कसंगत साबित करना होगा। यह सिलेबस से बाहर का विषय भी हो सकता है। सेक्शन तीन में 50-50 शब्दों के 9 सवालों के जवाब देने होंगे। प्रत्येक सवाल 10 अंक का होगा। सेक्शन चार क्रिटिकल थिंकिंग पर आधारित होगा। इसमें 5-5 अंक के 5 सवाल पूछे जाएंगे और शब्दसीमा 30 है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:नए कलेवर में होगी यूजीसी-नेट की परीक्षा