DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

विरोध का सामना करना पडा टोरंट कर्मियों को

उत्तर प्रदेश के आगरा में बिजली वितरण की व्यवस्था संभालने के बाद टोरंट पावर कम्पनी को भारी अव्यवस्थाओं का सामना करना पड़ रहा हैं।

राज्य सरकार से हुए करार के तहत पिछले 31 मार्च की रात सूई की घडी़ के बारह पर पहुंचने के साथ ही अहमदाबाद की टोरंट पावर कंपनी ने वितरण का काम उत्तर प्रदेश पावर कारपोरेशन लिमिटेड से अपने हाथ ले लिया।

आधिकारिक सूचनाओं के अनुसार ट्रांस यमुना क्षेत्रवासियों ने गुरूवार की रात फॉल्ट ठीक करने पहुंची, टोरंट टीम को बंधक बना लिया और मारपीट की तथा लाठियों से उनके वाहन तोड़ने के बाद रास्ता जाम कर दिया। खबर मिलने के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने भीड़ को तितर-बितर करके देर रात जाम खुलवाया।

स्थानीय पुलिस ने शुक्रवार को बताया कि मारपीट करने वाले सात लोगों के विरूद्ध मामला दर्ज कर लिया गया है। संभावित स्थानों पर सुरक्षा के मद्देनजर पुलिस बल तैनात कर दिया हैं।

टोरंट ने व्यवस्था हाथ मे आते ही उपभोक्ताओं की शिकायत पर गौर करना शुरू कर दिया है। बेहतर सुविधा उपलब्ध कराने के लिए काल सेंटर के माध्यम से शिकायतें दूर कराई जा रही हैं। शुक्रवार की सुबह तक 320 फाल्ट ठीक कराए जा चुके हैं।

टोरंट के महाप्रबन्धक दीपक ठक्कर के अनुसार जर्जर लाइनों को दुरूस्त कराने का कार्य शुरू कर दिया गया है।
उन्होंने स्पष्ट किया कि बिजली की दर बढा़ना विद्युत नियामक बोर्ड के हाथ में है। टोरंट का बिलिंग काम अभी तय नहीं हुआ है।

उन्होंने बताया कि कम्पनी बकाएदारों के कनेक्शन नहीं काटेगी बल्कि दक्षिणांचल का बकाया लिखकर अपने बिल अलग से उपभोक्ताओं को देगी। अव्यवस्थाओं को दूर करने में कम से कम तीन महीने का समय लगेगा।

 

 

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:विरोध का सामना करना पडा टोरंट कर्मियों को