DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भारत में दुधारू पशुओं को नहीं मिलता भरपेट चारा

देश में कुल दुग्ध उत्पादन का 50 फीसदी से ज्यादा हिस्सा ऐसे दुधारू पशुओं से आता है जिन्हें या तो भरपेट चारा नहीं मिलता या फिर जिनके भोजन में जरूरी पौष्टिक तत्वों का अभाव है।


 
ऐसे समय में जबकि देश में दुग्ध उत्पादन खपत से कहीं बहुत कम होने के कारण लगाता इसकी कीमतें ऊपर जा रही हैं दुधारू पशुओं की ऐसी विषम स्थिति वाकई चिंता का कारण है।

 पंजाब कृषि विश्वविद्यालय के खाद्य प्रसंस्करण और इंजीनियरिंग विभाग के वैग्यानिक महेश कुमार और अमरजीत सिंह के मुताबिक यह एक त्रासदी है कि दुनिया के सबसे बड़े दुग्ध उत्पादक देश भारत जहां सालाना 10 करोड़ टन दूध का उत्पादन होता है वहां के ज्यादातर दुधारू पशुओं को भरपेट चारा नहीं मिलता और अगर मिलता भी है तो उसमें पोषक तत्वों का अभाव रहता है।
 
वैज्ञानिकों ने आज यहां दुग्ध उत्पादन व्यवसाय में लगे किसानों का ध्यान इस समस्या की ओर दिलाते हुए कहा कि उन्हें अपने दुधारू पशुओं को पौष्टिक और पर्याप्त चारा उपलब्ध कराना चाहिए ताकि वह स्वस्थ्य रह सकें और पर्याप्त मात्रा में दूध दे सकें। उन्होंन कहा कि डेयरी उत्पादों के कुल खर्च में चारे का हिस्सा 60 से 70 फीसदी होना चाहिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:भारत में दुधारू पशुओं को नहीं मिलता भरपेट चारा