DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गुडगांव में 57 प्रापर्टी डीलरों और बिल्डरों का पंजीकरण

हरियाणा के गुडगांव जिले में अब तक कुल 57 प्रापर्टी डीलरों और बिल्डरों ने हरियाणा रेगूलेशन ऑफ प्रापर्टी डीलर्स एंड कंसल्टेंट्स नियमों के तहत अपना पंजीकरण कराया है।

 उल्लेखनीय है कि हरियाणा में नियम छह जनवरी 2009 से लागू है इनके अनुसार किसी भी प्रकार की सम्पति की खरीद-फरोख्त करने उसमें बदलाव करने या लीज पर लेने आदि का कार्य करने वाले प्रापर्टी डीलरों और बिल्डरों के लिए प्रशासन के पास अपनी फर्म का पंजीकरण कराना अनिवार्य है अन्यथा दो साल तक की सजा तथा एक लाख रुपए तक जुर्माना किया जा सकता है।

 एक आधिकारिक प्रवक्ता ने बताया कि जमीन एवं सम्पत्ति खरीद में होने वाली धोखाधड़ी से बचने और अवैध कालोनियों पर रोक लगाने के लिए यह कानून बनाया गया है।


 प्रवक्ता के अनुसार प्रापर्टी डीलरों और बिल्डरों को प्रापर्टी डीलर का लाइसेंस लेने के लिए 25 हजार रुपए की फीस जमा करानी पडेगी। लाईसेंस पांच वर्ष की अवधि के लिए मान्य होगा। इसके बाद पांच हजार रुपए की फीस भरकर लाईसेंस का नवीनीकरण कराया जा सकता है और देरी होने पर पांच सौ रुपए प्रतिमाह का जुर्माना भरना पड़ेगा।

 इसी प्रकार संगठन कंपनी या सोसायटी भी प्रापर्टी डीलर के लाईसेंस के लिए आवेदन कर सकते हैं उनहें लाईसेंस फीस के रुप में 50 हजार रुपए भरने पडेंगें। सोसायटी के लाईसेंस नवीनीकरण पर दस हजार रुपए की फीस लगेगी और समय पर नवीनीकरण न कराने पर उसे हजार रुपए प्रतिमाह की दर से जुर्माना भरना पडेगा।
 प्रवक्ता ने बताया कि प्रशासन द्वारा प्रापर्टी डीलरों की सुविधा के लिए सार्वजनिक निजी भागीदारी में शिविर आयोजित किए जा रहे हैं ताकि उन्हें अपनी फर्म के पंजीकरण के लिए सरकारी दफ्तरों के चक्कर न काटने पडे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:गुडगांव में 57 प्रापर्टी डीलरों और बिल्डरों का पंजीकरण