DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अफगानिस्तान में भारत की उपस्थिति चिंता का सबबः कुरैशी

अफगानिस्तान में भारत की उपस्थिति चिंता का सबबः कुरैशी

पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने कहा कि अफगानिस्तान में भारत की बढ़ती हुई उपस्थिति को लेकर पाक ने अमेरिका से अपनी चिंता व्यक्त की है और साफ कर दिया है कि युद्ध प्रभावित इस देश में पाकिस्तान के भारत की तुलना में ज्यादा हित दांव पर लगे हैं।

पाकिस्तानी संसद के ऊपरी सदन या सीनेट में कुरैशी ने गुरुवार रात यह बयान दिया। वह हाल में संपन्न अमेरिका और पाकिस्तान के बीच सामरिक संवाद के बारे में बयान दे रहे थे। कुरैशी ने कहा कि अफगानिस्तान में पाकिस्तान के हितों को लेकर जायज चिंताओं को अमेरिका ने स्वीकार किया है। इन चिंताओं का समाधान निकालने की जरूरत है।

उन्होंने कहा कि अफगानिस्तान के साथ भारत के संबंध दीर्घकालिक हैं और दोनों देशों को संबंध रखने का अधिकार है। कुरैशी ने कहा कि लेकिन इस संबंध में जायज अंतर है। भारत, पाकिस्तान के साथ अफगान संबंधों की तुलना नहीं कर सकता क्योंकि भारत की सीमा अफगानिस्तान से नहीं लगती है। अफगानिस्तान पर सोवियत कब्जे के दौरान इसकी भूमिका के बारे में सभी को पता है।

उन्होंने कहा, अफगानिस्तान में अस्थिरता के कारण पाकिस्तान को जितनी कीमत चुकानी पड़ी है भारत पर तो इसका रत्ती भर भी प्रभाव नहीं पड़ा है।  कुरैशी ने कहा कि पाकिस्तान और अफगान संबंधों को यदि भारत प्रभावित करने की कोशिश करता है तो यह चिंता का विषय होगा।

उन्होंने कहा कि अमेरिका के साथ सामरिक संवाद के दौरान आंतक के खिलाफ युद्ध के कारण पाकिस्तान के समक्ष मौजूद चुनौतियों के बारे में पाकिस्तान को अवगत करा दिया गया है और देश को मदद की तुरंत जरूरत है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अफगानिस्तान में भारत की उपस्थिति चिंता का सबबः कुरैशी