DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आश्वासनों के बाद अभियंताओं ने वापस लिया कार्य बहिष्कार आंदोलन

उत्तर प्रदेश पावर कारपोरेशन लिमिटेड के कर्मचारियों और अभियंताओं ने निगम द्वारा आगरा शहर की विद्युत आपूर्ति व्यवस्था निजी कंपनी टोरेंटो को सौंप दिये जाने के विरोध में एक दिन पूर्व शुरु किये गये अनिश्चितकालीन कार्य बहिष्कार को निगम प्रबंधन के साथ बातचीत के बाद गुरुवार देर रात वापस लेने का निर्णय ले लिया है।

आधिकारिक सूत्रों ने बताया है कि बिजली कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति ने यह निर्णय गुरुवार देर रात निगम के अध्यक्ष नवनीत सहगल से हुई वार्ता के बाद लिया है, जिसमें निगम ने ग्रामीण विद्युत आपूर्ति व्यवस्था को निजी कंपनियों को सौंपे जाने के बारे में दोबारा समीक्षा करने का आश्वासन दिया है।

सूत्रों ने बताया है कि नवनीत सहगल के इस आग्रह पर कि संघर्ष समिति आगरा की विद्युत आपूर्ति व्यवस्था को निजी कंपनी को सौंपे जाने के कारणों और उससे अपेक्षित लाभों के मद्देनजर अपना सहयोग प्रदान करे और ग्रामीण विद्युत आपूर्ति व्यवस्था के बारे में अपने सुझाव दे, समिति ने अपना अनिश्चितकालीन बहिष्कार आंदोलन वापस ले लिया।

संघर्ष समिति के प्रवक्ता ने बताया है कि गुरुवार देर रात तक चली वार्ता में निगम प्रबंधन ने निगम के कर्मचारियों एवं अभियंताओं के हितों की सुरक्षा, खाली पदों को भरे जाने और संविदा कर्मियों की समस्याओं के समाधान, पहली जनवरी 2006 से तीन समयबद्ध वेतनमान दिये जाने आदि का आश्वासन दिया है।

गौरतलब है कि आगरा शहर की विद्युत आपूर्ति व्यवस्था को निजी कंपनी टोरेंटो को सौंप दिए जाने के विरोध में समिति के आह्वान पर निगम के कर्मचारियों और इंजीनियरों ने 31 मार्च से अनिश्चितकालीन कार्य बहिष्कार आंदोलन शुरु कर दिया था और गुरुवार को पूरे प्रदेश में काला दिवस मनाया था, मगर निगम प्रबंधन के साथ गुरुवार देर रात तक चली वार्ता में मिले आश्वासनों के बाद उन्होंने अपना आंदोलन समाप्त कर दिया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आश्वासनों के बाद अभियंताओं ने वापस लिया कार्य बहिष्कार आंदोलन