DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इनाम ना हासिल होने का मलाल है मिनीषा को

इनाम ना हासिल होने का मलाल है मिनीषा को

श्याम बेनेगल की फिल्म 'वेल डन अब्बा' में शानदार भूमिका निभाने वाली मिनीषा लांबा को श्याम बेनेगल के हाथों से 500 रूपए का पुरस्कार हासिल नही होने का मलाल है।
  
श्याम बेनेगल की इस फिल्म का नाम पहले 'अब्बा का कुआं' रखा गया था लेकिन यह फिल्म के अनुरूप जंच नहीं रहा था इसलिए इस फिल्म यूनिट के सभी सदस्यों से इस फिल्म का नया नाम सोचने को कहा गया था।
  
इस प्रतिस्पर्धा में इस फिल्म के पटकथा लेखक अशोक मिश्रा सबसे आगे रहे और उन्होंने इस फिल्म का नाम 'वेल डन अब्बा' रखा जो कि फिल्म की कहानी से मेल खाता है। इस कारण उन्हें श्याम बेनेगल के हाथों से इनाम स्वरूप 500 रूपए हासिल हो गए।
  
इस तरह के शानदार काम करने वालों को यह मशहूर फिल्म निर्देशक हमेशा 500 रूपए का इनाम देकर सम्मानित करते हैं। पिछले 35 सालों में इनाम की इस राशि में कोई बढ़ातरी नहीं की गई है। लेकिन उभरती हुई कलाकार 'मिनीषा' का मनाना है, "राशि नहीं श्याम सर के हाथों से यह हासिल करना बहुत ही गौरव की बात है और मिश्राजी ने यह बाज़ी मार ली।
  
गौरतलब है कि अशोक मिश्र ने ही श्याम बेनेगल की पिछली फिल्म 'वेलकम टू सज्जनपुर' की पटकथा लिखी थी। इसके साथ ही उन्हें जगमोहन मुनधरा की बहुचर्चित फिल्म 'बवंडर' की कहानी भी लिखी थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:इनाम ना हासिल होने का मलाल है मिनीषा को