DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कानपुर में बना संगमरमर का 'सचिन सर्व धर्म' द्वार

कानपुर में बना संगमरमर का 'सचिन सर्व धर्म' द्वार

मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर के कीर्तिमानों के लिए उन्हें सम्मानित करने के लिए यहां गुलाबी रंग के संगमरमर के पत्थरों से एक भव्य द्वार बनाया गया है। शहर की जनता की तरफ से इस दिग्गज क्रिकेटर को समर्पित यह द्वार कानपुर नगर निगम ने बनवाया है और इसका नाम सचिन रमेश तेंदुलकर सर्वधर्म द्वार रखा गया है।

शहर की काल्पी रोड से दर्शनपुरवा को जोड़ने वाले रास्ते पर बने सचिन रमेश तेंदुलकर द्वार का उद्घाटन शनिवार को होगा। वैसे अधिकारियों की इच्छा थी कि सचिन ही इस द्वार का उद्घाटन करें, लेकिन उनकी यह मंशा पूरी नहीं हो पा रही है। वे अब यह जरूर चाहते हैं कि सचिन अब जब भी कानपुर के ग्रीन पार्क में कोई भी क्रिकेट मैच खेलने आएं तो इस द्वार को देखने अवश्य आएं।

मेयर रविन्द्र पाटनी ने बताया कि मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर के खेल का तो पूरा देश दीवाना है इसलिए कानपुर नगर निगम ने एक योजना बनाई कि सचिन के क्रिकेट में बनाए गए विश्व कीर्तिमानों को देखते हुए शहर की जनता की ओर से उन्हें एक तोहफा दिया जाए और इस लिए नगर निगम ने काल्पी रोड से दर्शनपुरवा को जोड़ने वाले मार्ग पर एक भव्य द्वार बनाया और इसका नाम सचिन रमेश तेंदुलकर सर्व धर्म द्वार रखा।

मेयर पाटनी ने बताया कि सचिन के नाम का यह द्वार 25 फीट ऊंचा और 25 फीट चौड़ा है तथा इसे विशेष गुलाबी रंग के संगमरमर के पत्थरों से बनाया गया है तथा इसकी लागत करीब दस लाख रूपए आई है। यह सारा पैसा नगर निगम पार्षद कोटे से लगाया गया है।

उन्होंने बताया कि नगर निगम और शहर के नागरिकों तथा क्रिकेट प्रेमियों की इच्छा थी कि इस द्वार का उद्घाटन सचिन स्वयं करें, लेकिन चूंकि वह आईपीएल और अन्य कार्यक्रमों में व्यस्त हैं इसलिए उनका आना संभव न हो सका। अब इसका उद्घाटन भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता राजनाथ सिंह करेंगे।

उन्होंने बताया कि शहर की जनता के सचिन के प्रति प्यार और सम्मान को देखते हुए नगर निगम यह कोशिश जरूर करेगा कि अब जब भी वह कानपुर के ग्रीन पार्क स्टेडियम में क्रिकेट मैच खेलने आएं तो उन्हें उनके नाम पर बने इस द्वार पर अवश्य लाया जाए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कानपुर में बना संगमरमर का 'सचिन सर्व धर्म' द्वार