DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आतंकी संगठनों के खिलाफ कार्रवाई करे पाक: अमेरिका

आतंकी संगठनों के खिलाफ कार्रवाई करे पाक: अमेरिका

ओबामा प्रशासन ने स्वात घाटी में आतंकवादियों के खिलाफ पाकिस्तान की हालिया कार्रवाई और शीर्ष तालिबानी नेताओं को गिरफ्तार करने के लिए पाकिस्तान की सराहना की है, लेकिन साथ ही पाक से उसकी सीमाओं में लश्कर-ए-तैयबा जैसे आतंकी संगठनों के खिलाफ कार्रवाई करने को कहा है।
 
अमेरिका ने कहा है कि ऐसा केवल इसलिए नहीं करना है कि यह भारत के लिए महत्वपूर्ण है बल्कि यह अमेरिका के लिए भी महत्वपूर्ण है।

दक्षिण और मध्य एशियाई मामलों के सहायक विदेश मंत्री राबर्ट ब्लैक की हालिया पाकिस्तान यात्रा के दौरान शीर्ष पाक अधिकारियों को यह संदेश पहुंचाया गया। उन्होंने कहा कि मैंने पाकिस्तानियों से पंजाब स्थित लश्कर-ए-तैयबा जैसे संगठनों के खिलाफ कार्रवाई करने की अपील की।


ब्लैक ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन में विदेशी संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि डेविड हेडली के मामले से पता चलता है कि लश्कर की महत्वाकांक्षा और उसकी गतिविधियां बढ़ रही हैं। इसलिए हम सोचते हैं कि लश्कर के खिलाफ कार्रवाई करना काफी कुछ पाकिस्तान के हित में है।

ब्लैक ने कहा कि आज की तारीख में पाकिस्तान ने जो महत्वपूर्ण प्रगति की है उसके लिए मैं पाकिस्तान में हमारे सभी वार्ताकारों का आभार व्यक्त करता हूं। पहले उसने स्वात में अपने अभियान में और अब हाल ही में वजीरिस्तान में उसने काफी काम किया। इसके बाद तालिबान नेताओं की गिरफ्तारी को तो आप सबने देखा है। लेकिन हम समझते हैं कि पंजाब स्थित आतंकवादी समूहों के खिलाफ भी कार्रवाई करने की जरूरत है, जिनमें से कई पाकिस्तान को निशाना बना रहे हैं।

ब्लैक ने तर्क दिया कि जैश-ए-मोहम्मद जैसे संगठन लाहौर में आतंकवादी हमले के लिए जिम्मेदार हैं। वह श्रीलंकाई क्रिकेट टीम पर हमले के लिए जिम्मेदार हैं। इसलिए एक बार फिर मैं समझता हूं कि पाक सरकार के पास इन समूहों के खिलाफ कार्रवाई करने के पर्याप्त आधार हैं।

हाल ही में भारत और पाकिस्तान की यात्रा करने वाले अमेरिकी विदेश विभाग के अधिकारियों ने स्वीकार किया कि दोनों देशों में कश्मीर का मुद्दा चर्चा के लिए उठा, लेकिन यह भारत और पाकिस्तान को तय करना है कि वे इस मुद्दे पर कैसे आगे बढ़ना चाहते हैं।

ब्लैक ने कहा यह अहम मुद्दा है। हर किसी चीज में हमेशा कश्मीर आ जाता है। इसलिए यह बेहद प्रमुख है। उन्होंने कहा दोनों देशों ने वर्ष 2004 से 07 के बीच में काफी प्रगति की है।   

उन्होंने कहा कि लोगों का सवाल यह रहता है कि भारत और पाकिस्तान के लिए प्रगति करना मुश्किल है लेकिन यह सच नहीं है। इस अवधि में आपके दोनों देशों ने काफी प्रगति की है।   

ब्लैक ने कहा कि वास्तव में एक प्रकार के समझौते की तरह एक ब्लूप्रिंट है, अगर वे इसे मंजूरी देना चाहें तो।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आतंकी संगठनों के खिलाफ कार्रवाई करे पाक: अमेरिका