DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हरियाणा में जनगणना कार्य एक मई से

हरियाणा में जनगणना विभाग की निदेशक नीरजा शेखर ने बताया कि इस अभियान के दौरान न केवल संख्याओं को संग्रहित किया जाएगा, बल्कि गणनाकार मोबाइल फोन, कम्प्यूटर और इंटरनेट पर सूचना एकत्रित करने के अलावा फिगर प्रिंट और छायाचित्र भी संग्रहित करेंगे। इस अभियान में 56 हजार गणनाकार एवं निरीक्षक भाग लेंगे।

उन्होंने बताया कि एक मई से 15 जून तक चलने वाले जनगणना के प्रथम चरण में राज्य के सभी 21 जिलों 71 तहसीलों 106 शहरों और 6764 गावों में मकानों की सूची बनाना और आवास जनगणना करना शामिल होगा। मकान सूची और आवास जनगणना से मानव की रिहायश की स्थितियों, आवासीय कमी पर व्यापक डाटा उपलब्ध होगा और जिसके परिणाम स्वरूप आवास जरूरतों संबंधी आवासीय नीतियां बनाई जाएंगी।

उन्होंने कहा कि जनगणना से प्रदेश के लोगों के लिए राष्ट्रीय अनूठी पहचान संख्या, यूआईडी, के लिए मार्ग भी प्रशस्त होगा।

जनगणना 2011 राष्ट्रीय अनूठी पहचान संख्या के शुभारम्भ का अग्रदूत होगी। प्रथम चरण में राज्य के सभी साधारण निवासियों का डाटा संग्रह होगा। इसके बाद द्वितीय चरण में 15 वर्ष ऊपर के सभी निवासियों के छायाचित्र और बायोमीट्रिक सूचना का संग्रह होगा।

जनगणना कार्य में नए आयाम शामिल किए गए हैं. क्योंकि राष्ट्र्रीय जनसंख्या पंजीकरण दो चरणों में सृजित किया जाएगा। राष्ट्रीय जनसंख्या पंजीकरण के एक डाटा बेस में समस्त जनसंख्या होगी जिसमें सूचना जैसे कि व्यक्ति का नाम, पिता का नाम, माता का नाम, पत्नी का नाम,  लिंग, जन्म तिथि, जन्म स्थान, वर्तमान वैवाहिक स्थिति, शिक्षा, राष्ट्रीयता जैसी घोषित की गई है। व्यवसाय, अधिवासी का वर्तमान पता और स्थाई निवास स्थान का पता शामिल होंगे।

उन्होंने कहा कि जनगणना डाटा बेस में 15 वर्ष से अधिक की आयु के व्यक्तियों के फोटोग्राफ और दस उंगलियों की बायोमेट्री भी शामिल होंगी। 15 वर्ष से कम आयु के बच्चे अपने माता-पिता के यूआईडी संख्या का उपयोग करेंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:हरियाणा में जनगणना कार्य एक मई से