DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नए वित्त वर्ष में

नया वित्त वर्ष शुरू हो चुका है। अगले वर्ष मार्च के अंत में अपने बजट को व्यवस्थित करने की हड़बड़ी से बचना चाहते हैं, तो यदि पूंजी की दृष्टि से देखा जाए तो कैलेंडर ईयर से भी अधिक महत्वपूर्ण वित्त वर्ष को माना जाता है। अभी से अपनी वित्त योजना बनाना प्रारंभ कर दें। ताकि नए वित्त वर्ष को वास्तव में नयापन दे सकें ।

-सबसे पहले खुद के लिए एक वित्त योजना बनाएं। तभी आप पूरे साल इसे सही प्रकार से अमल में भी ला पाएंगे। थोड़ा-सा समय दें और खुद से पूछें कि आप कहां जाना चाहते हैं और वहां तक कैसे पहुंच सकते हैं?

- इसके बाद अगला कदम संपत्ति की आबंटन योजना का होगा। यदि आपके पास पिछले वर्ष के कुछ ऐसे स्टॉक्स पड़े हैं, जिनके बारे में आप नहीं जानते कि क्या होगा तो बेहतर होगा कि आप उसे बेच दें।

-अपने दायित्व और संपत्ति की सूची बनाएं। यह जानें कि कौन सी संपत्तियां आपको मुनाफा दे रही हैं और कौन से दायित्वों को चुकाना या  बनाए रखना आपको भारी पड़ रहा है। ऐसे में आप कम आय वाली संपत्ति को बेचकर आप अधिक ब्याज वाले ऋणों को चुका सकते हैं।

- खर्च करना जरूरी है, तो बचत करना भी। खासतौर पर नियमित रूप से बचत करने की प्रवृत्ति विकसित करें। याद रखें कि निवेश का उद्देश्य मात्र कर बचाना नहीं होता, संपत्ति का निर्माण करना भी होता है। यदि आप कर बचाने के उद्देश्य से भी बचत करते हैं, तो उसके लिए दिसंबर से मार्च तक के समय का इंतजार करने की जरूरत नहीं है। आप सिस्टेमैटिक इंश्योरेंस प्लान के जरिए भी प्रारंभ से आगे बढ़ सकते हैं। जितनी जल्दी आप शुरू कर देंगे, उतने बेहतर परिणाम भी पा सकेंगे।

-यदि आप खर्च की तुलना में कम बचत करते हैं, तो खासतौर पर क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल करते समय विशेष सावधान रहें। जरूरत के लिए ही लोन लेने की नीति बनाएं, अनावश्यक सुविधाओं के लिए लोन का बोझ ना बढ़ाएं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:नए वित्त वर्ष में