DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

परीक्षा नहीं दिलाने पर मेरठ कॉलेज में हंगामा

एंट्री में मामूली गड़बड़ी करने पर महिला शिक्षक द्वारा छात्र को एग्जाम से बाहर करने पर मेरठ कॉलेज में छात्रों ने हंगामा कर दिया। छात्रों ने शिक्षक पर कार्रवाई की मांग की है। वहीं, छात्र अपना पेपर नहीं दे पाया। कॉलेज ने शिक्षक के खिलाफ कार्रवाई का आश्वासन दिया है।

बुधवार को बीकॉम प्रथम वर्ष में प्राइवेट छात्र के रूप में दुष्यंत तोमर पहली पाली में परीक्षा देने पहुंचा। छात्र के अनुसार रूम नंबर 33 में महिला शिक्षक की ड्यूटी थी। दुष्यंत के अनुसार उसने उत्तरपुस्तिका में कॉलेज कोड की जगह पेपर कोड की एंट्री कर दी। छात्र ने शिक्षिका से गलती सुधारने के बारे में पूछ लिया। इस पर महिला शिक्षिका झल्ला उठी और कॉपी छीनते हुए उसे कमरे से बाहर कर दिया। सूचना मिलने पर एनएसयूआई के अवनीश काजला के नेतृत्व में छात्रों ने प्रिंसीपल को घेर लिया। अवनीश के मुताबिक शिक्षिका ने छात्र का एक साल बर्बाद कर दिया है। इसके बाद प्रिंसीपल ने छात्र को पेपर में बैठाने को कहा, लेकिन शिक्षिका उसे एग्जाम में नहीं बैठाने की जिद पर अड़ गई। छात्र को पेपर में नहीं बैठने दिया गया। छात्रों ने शिक्षिका पर छात्र को जानबूझकर परेशान करने के आरोप लगाए। छात्रों के अनुसार यदि छात्र की गलती है तो यूएफएम के तहत कार्रवाई की जाए, लेकिन टीचर ने ऐसा भी नहीं किया। ऐसे में छात्र इस विषय में फेल हो जाएगा। वहीं, कॉलेज प्रशासन ने शिक्षिका के विरुद्ध कार्रवाई का आश्वासन देते हुए भविष्य में उसकी ड्यूटी परीक्षा में नहीं लगाने की बात कही है। प्रदर्शन में रोहित चौधरी, आकाश ठाकुर, राहुल तेवतिया, सचिन राणा, मो. सदाकत और अमित राणा शामिल रहे।

इंसेट-परीक्षा कक्ष में छात्र को दौरा पड़ा
बुधवार को परीक्षा कक्ष में छात्र को दौरा पड़ने से कॉलेज में हड़कंप मच गया। अंबेडकर डिग्री कॉलेज में रूम नंबर पांच में सुबह की पाली में बीकॉम संस्थागत के छात्रों का पेपर था। इसी दौरान परीक्षा कक्ष में प्रदीप तोमर को अचानक दौरा पड़ गया। छात्र के बेहोश होते ही कॉलेज में हड़कंप मच गया। इस बीच पर्यवेक्षक डॉ. विकास शर्मा और प्राचार्य डॉ. सीडी सिंह को कक्ष में बुलाया गया। डॉ. विकास ने छात्र को कक्ष से बाहर चारपाई पर लिटाने की व्यवस्था कराई। फर्स्ट एड देने के करीब बीस मिनट बाद छात्र को होश आ गया। इस बीच छात्र के परिजनों को भी सूचित किया गया। दूसरी ओर, एमए फाइनल इयर में शाम की पाली में पेपर में आधे-अधूरे सवालों से छात्र परेशान रहे, प्रश्नपत्र में कई गलतियां भी थीं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:परीक्षा नहीं दिलाने पर मेरठ कॉलेज में हंगामा