DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बोर्ड के परीक्षार्थियों को राहत की घोषणा

सीबीएसई ने 10वीं और 12वीं की परीक्षा देने वाले छात्रों परीक्षार्थियों के मूल्यांकन के दौरान राहत दिए जाने की घोषणा की है। बोर्ड की ओर से कहा गया है कि उन्होंने एक मोडरेशन पॉलिसी बनाई है। इस पॉलिसी में सबसे अहम बात यह है कि अगर प्रश्नपत्र में किसी प्रकार की परेशानी रहती है या फिर प्रिंटिंग में भूल आदि की वजह से छात्रों का सीमित समय बर्बाद होता है तो उसकी भरपाई की जाएगी।

इसके साथ ही अगर कोई प्रश्‍न गलत या अधूरा होगा तो उतने अंकों भी भरपाई भी की जाएगी। 12वीं की परीक्षा में इस बार छह अंकों का एक प्रश्न अधूरा आ गया था और इसे लेकर छात्रों को काफी परेशानी झेलनी पड़ी थी।

मूल्यांकन के दौरान मूल्यांकनकर्ता का प्रभाव हावी नहीं हो, इसकी खातिर एक्सपर्ट मापदंड तय करने में लगे हुए हैं।

बोर्ड परीक्षा के दौरान किसी पेपर के सेट अगल-अलग होते हैं इससे अलग-अलग शहरों के छात्रों के लिए प्रश्न एक नहीं रह जाते। ऐसे में पेपर सेट की वजह से किसी को समस्या नहीं हो, इस बात का भी पूरा ख्याल रखा जाएगा।

जहां तक पास प्रतिशत की बात है पिछले वर्षों के अनुरूप भी छात्रों का पास प्रतिशत बरकरार रखने की कोशिश होगी। चाहें वह विषयवार हो या फिर ओवरऑल।

कोट
हमारे बोर्ड से देश भर के बच्चे जुड़े हैं। कहीं भी किसी तरह की असमानता न हो, किसी को कोई नुकसान नहीं हो इसकी खातिर हमने एक मापदंड तय किया है। उम्मीद है इसका सार्थक असर उभरकर सामने आएगा। मापदंड तय करने का काम एक्सपर्ट्स को सौंपा गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बोर्ड के परीक्षार्थियों को राहत की घोषणा