DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इस प्लेटफॉर्म से ऊंची छलांग लगाने को तैयार है राकेश

इस साल सीबीएसई की 10वीं का रिजल्ट निकलने के बाद राजधानी के बरियातू स्थित साईं अस्पताल के पीछे रहनेवाले किशोर कुमार के घर में खुशियां फूट पड़ी थीं। उनका होनहार बेटा राकेश रोशन डीएवी पब्लिक स्कूल बरियातू से सफल हुआ था। उसे 92.6 प्रतिशत अंक मिले थे। अब उसने हिन्दुस्तान कोचिंग स्कॉलरशिप की परीक्षा में भी सफलता हासिल कर ली है। इससे उसका जज्बा सातवें आसमान पर है। इंजीनियर बन देश और समाज की सेवा करने का लक्ष्य रखनेवाले राकेश रौशन के अनुसार वह शुरू से ही इंजीनियर बनने का ख्वाब देखता था। निम्न आय वर्ग के परिवार से ताल्लुक रखने के कारण कभी-कभी उसे लगता था कि शायद अपना ख्वाब वह पूरा नहीं कर सकेगा, लेकिन मन के किसी कोने से हमेशा हिम्मत मिलती थी। बकौल राकेश, अब हिन्दुस्तान कोचिंग स्कॉलरशिप का प्लेटफॉर्म मिलने के बाद वह ऊंची छलांग लगाने को तैयार है। उसने कहा कि हिन्दुस्तान के इस प्रयास से विद्यार्थियों को प्लेटफार्म मिलेगा। वैसे बच्चे भी कुछ कर सकेंगे, जिनके पास संसाधन नहीं हैं।

राकेश के पिता किशोर कुमार और माता मंजू देवी राकेश की सफलता पर बेहद खुश हैं। उन्हें अपने इस होनहार बेटे पर भरोसा है कि वह इंजीनियरिंग कंप्लीट करेगा। मनोज कहते हैं : बचपन से ही राकेश को पढ़ने का शौक था। वह हमेशा अपने क्लास में अव्वल आता था। राकेश ने कहा कि टेस्ट उसके लिए लाभदायक सिद्ध हुआ। इससे पैटर्न का पता चल गया है। इसी को आधार बना कर आगे की तैयारी की जा रही है। राकेश ने अपनी सफलता का श्रेय गणित टीचर अशोक, संस्कृत टीचर विभा रानी और अपने बड़े भाई अभिरंजन को दिया है। वह कहता है : इंजीनियर बन कर परिवार, स्कूल, समाज और देश की सेवा करेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:इस प्लेटफॉर्म से ऊंची छलांग लगाने को तैयार है राकेश