DA Image
26 फरवरी, 2020|5:50|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जांच रिपोर्ट न आने से खुलेआम घूम रहे मिलावट करने वाले

खाद्य चीजों में मिलावट रोकने के तमाम प्रयास हमारे यहां निर्थक साबित हो रहे हैं क्योंकि मिलावट करने वालों के खिलाफ कारगर कार्रवाई के पर्याप्त प्रावधान नहीं हैं और इस बात को प्रशासन में बैठे लोग भी स्वीकार करते हैं ।

पिछले तीन माह में प्रदेश में मिलावटी चीजो के सबसे अधिक करीब 350 नमूने अकेले कानपुर से ही जांच के लिये भेजे गये लेकिन रिपोर्ट एक मामले की भी नही आयी और मिलावट करने वाले खुलेआम घूम रहे हैं।


नगर आयुक्त राजीव शर्मा ने गुरूवार को पीटीआई से एक विशेष बातचीत में इस बात को माना कि कानपुर उत्तर प्रदेश में मिलावटी खादय पदार्थ का सबसे बड़ा केन्द्र बनता जा रहा है।

वह बताते है कि इस वर्ष जनवरी से अब तक नगर निगम करीब 350 नकली और मिलावटी खाद्य पदार्थ के नमूने लखनऊ स्थित प्रयोगशाला भेजे जा चुके हैं लेकिन अभी तक किसी एक मामले की भी रिपोर्ट नही आयीं है और मिलावटी कारोबार करने वाले लोग खुले आम घूम रहे हैं और मिलावटी सामान बेच रहे हैं।

नगर आयुक्त के अनुसार जब कोई नमूना लखनऊ प्रयोगशाला भेजा जाता है तो वहां से चालीस दिनों के अंदर रिपोर्ट आ जानी चाहिये लेकिन कभी कभी साल भर में भी जांच रिपोर्ट नही आती।

नकली और मिलावटी सामान की जांच रिपोर्ट समय पर न आने से नगर निगम के अधिकारी और कर्मचारी निराश है क्योंकि जब तक रिपोर्ट नहीं आ जाती जनता के स्वास्थ्य से खिलवाड़ करने वाले इन व्यापारियों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की जा सकती है।
    

 

 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title: खुलेआम घूम रहे हैं मिलावट करने वाले