DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हेमन्त, बिरला फाउंडेशन के बिहारी पुरस्कार के लिए चुने गए

हेमन्त, बिरला फाउंडेशन के बिहारी पुरस्कार के लिए चुने गए

के.के. बिरला फाउंडेशन के प्रतिष्ठित बिहारी पुरस्कार, वर्ष 2009 के लिए हेमन्त शेष के काव्य संग्रह, ‘जगह जैसी जगह’ को चुना गया है। इस पुरस्कार के तहत एक प्रशस्ति पत्र, प्रतीक चिन्ह व एक लाख रुपये की राशि भेंट की जाती है। हेमन्त शेष को 19वें बिहारी पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा।

बिहारी पुरस्कार के लिए चुने गए हेमन्त शेष का जन्म 28 दिसम्बर, 1952 को जयपुर राजस्थान में हुआ। इन्हें हिन्दी कवि के रूप में जाना जाता है। हेमन्त शेष 1976 में राजस्थान विश्वविद्यालय, जयपुर से स्नातकोत्तर उपाधि प्राप्त करने के पश्चात सन् 1977 में भारतीय प्रशासनिक सेवा में भर्ती हो गए। इनके अब तक 11 कविता-संग्रह प्रकाशित हो चुके हैं। इनकी कुछ रचनाएं भारतीय और विदेशी भाषाओं में अनुदित हैं। इन्हें कई पुरस्कारों से पुरस्कृत किया जा चुका है।

हेमन्त जी ने साहित्य और कला-विचार पर एकाग्र त्रैमासिक द्विभाषी पत्रिका ‘कला-प्रयोजन’ का 1995 से नियमित सम्पादन किया है। पुरस्कृत कृति ‘जगह जैसी जगह ’ में कवि ने उन विषयों को चुना है जो बाहर की औपचारिक अक्रांन्ति न होकर आत्मा के भीतर जाने वाले रास्तों की खोज हैं। इनमें गहरी आत्माकुलता और अर्थगर्भी विकलता को काव्यांशयों में बदलने की कोशिश की गई है। दूसरे समकालीन कवियों से यहां उनका कवित्व अपनी वैचारिक मौलिकता के कारण अनूठा है।

आमतौर पर जिन पर हमारा ध्यान नही जाता वैसे आस-पास के रोज़मर्रा के दृश्यों में भी वह जीवन के सत्य तलाशते हैं। काल बोध के बहुत से नये आयाम हेमन्त शेष की इस काव्य-यात्रा में दिखते हैं। तुरंत ही ध्यान खींच सकने वाला उनका यह मूलत: दार्शनिक भावबोध, कालचेतना के आधुनिक आशयों का कुछ ऐसा रससिक्त-सन्धान है जहां प्रकृति के कई रंग है; प्रतीक्षा, विनोद, विरह और प्रेम की कई छटाएं हैं; निधन, उदासी, हर्ष, विषाद, करुणा खेद, उल्लास के स्वर हैं, जो कविता के लिए मौलिक जगह उत्पन्न कर पाने के उपक्रम के रूप में देखे सुने जा सकते हैं।

कोलाहल और भीड़ भरे समकालीन काव्य परिदृश्य में हेमन्त शेष जैसे कवियों की प्रासंगिकता की वजह यह है कि वह अपनी निन्दा या स्वतन की फिक्र किए बिना बहुत प्रशान्त व अपने ही ढंग की विनम्र मौलिकता व अपनी शर्तो पर कविता लिखने की पक्षधरों में हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:हेमन्त, बिरला फाउंडेशन के बिहारी पुरस्कार के लिए चुने गए