DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दो टूक (01 अप्रैल, 2010)

दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण मानक यूरो-4 लागू हो गया है। उम्मीद की जा रही है कि कम सल्फर वाले ईंधन के इस्तेमाल से यहां हवा की सेहत सुधरेगी। लेकिन समस्या का एक और पहलू भी है।

नई व्यवस्था से जो थोड़ी-बहुत राहत मिलेगी, गाड़ियों की बेलगाम तादाद, उसे बेअसर कर डालेगी। राजधानी में हर महीने 10,000 नई निजी कारें सड़कों पर उतरती हैं। वाहनों की संख्या को थामे बिना प्रदूषण घटने की उम्मीद की जा सकती?

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दो टूक (01 अप्रैल, 2010)