DA Image
7 जुलाई, 2020|11:29|IST

अगली स्टोरी

क्वात्रोच्चि मामले में सीबीआई के कदम पर फैसला टला

क्वात्रोच्चि मामले में सीबीआई के कदम पर फैसला टला

दिल्ली की एक अदालत ने सीबीआई द्वारा इटली के व्यापारी ओटवियो क्वात्रोच्ची के खिलाफ मामले वापस लेने के कदम पर अपने फैसले की घोषणा 17 अप्रैल तक टाल दी। दो दशक पुराने बोफोर्स संबंधी मामले वापस लेने के कदम पर आपत्ति जताते हुए एक वकील ने अदालत में याचिका दायर की थी।

अतिरिक्त महाधिवक्ता पीपी मल्होत्रा ने अदालत को बताया कि सुप्रीम कोर्ट को भेजे गए मूल रिकॉर्ड अब तक वापस नहीं आए हैं, जिसके बाद मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट संदीप गर्ग ने मामले की सुनवाई स्थगित कर दी।

सीबीआई के इस कदम के खिलाफ वकील अजय अग्रवाल ने याचिका दायर की थी। अग्रवाल ने कहा कि इस मामले में उन्होंने अक्टूबर, 2005 में अपील दायर की थी, जो अब भी सुप्रीम कोर्ट के सामने लंबित है। अग्रवाल ने दावा किया कि सीबीआई ने मामले से कुछ आरोपियों को मुक्त करने के दिल्ली उच्च न्यायालय के फैसले के खिलाफ अपील दायर नहीं की है।

इस बीच उच्चतम न्यायालय ने मंगलवार को अग्रवाल से अपनी उस याचिका को वापस लेने को कहा जिसमें सीबीआई को यह निर्देश देने की अपील की गई है कि वह लंदन में क्वात्रोच्चि के बैंक खातों से सील हटाने की प्रक्रिया रोके। उसने हालांकि उन्हें 70 वर्षीय क्वात्रोच्चि के खिलाफ एक नई याचिका दायर करने को कहा।

दिल्ली उच्च न्यायालय ने पिछले साल छह नवंबर को अपने आदेश की घोषणा यह कहते हुए स्थगित कर दी थी कि उसके पास मूल दस्तावेज नहीं है क्योंकि उन्हें उच्चतम न्यायालय के पास भेजा गया है। मामले में क्वात्रोच्चि ही एक मात्र जीवित अभियुक्त है। दिल्ली उच्च न्यायालय ने उन अन्य के खिलाफ 31 मई 2005 को आरोप खारिज कर दिए थे, जो कभी भी देश की किसी अदालत में पेश नहीं हुए।

सीबीआई ने दो बार क्वात्रोच्चि को प्रत्यर्पित करने की कोशिश की। पहली बार 2003 में मलेशिया से और फिर 2007 में अर्जेन्टीना से। पिछले साल नवम्बर में एजेंसी ने इंटरपोल से क्वात्रोच्चि का नाम रेड कार्नर नोटिस की सूची से हटाने को कहा ।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:क्वात्रोच्चि मामले में सीबीआई के कदम पर फैसला टला