अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मानवाधिकार के लिए मिलजुल कर संघर्ष करं

मसामाजिक द्वंद्व ऐसा संघर्ष है, जो समाज की व्यवस्था में अस्थिरता लाता है। लंबे समय तक चले आ रहे इस संघर्ष के लिए सामूहिकता जरूरी है। यह विचार एग्रीकल्चर ट्रेनिंग सेंटर में आयोजित कार्यशाला में सामने आयी। 20 जनवरी को कार्यक्रम का दूसरा दिन था। यह कार्यक्रम इंडियन सोशल इंस्टीट्यूट की ओर से झारखंड के लिए आयोजित किया गया है। पहले सत्र के वक्ता संतोष माखरिया ने मानवाधिकार को लेकर विश्वव्यापी असंतोष पर चर्चा की। दूसरे सत्र में वक्ता धर्मराज राय ने मानवाधिकार को लेकर सामाजिक द्वंद्व पर अपने विचार रखे। कार्यक्रम में सामाजिक विषमता दूर करने के लिए व्यक्ितगत और संस्था के माध्यम से संकल्प लेने की बात कही गयी। इस मौके पर झारखंड के विभिन्न जिलों से एक सौ दस लोग शामिल हुए। कार्यक्रम का संचालन फादर सिल्बानुस केरकेट्टा ने की। समापन शनिवार को होगा।ड्ढr चित्रांकन प्रतियोगिता आयोजितड्ढr रांची। मिनर्वा परिवार के तत्वावधान में शुक्रवार को चित्रांकन प्रतियोगिता का आयोजन संत अलोइस उवि सभागार में किया गया। प्रतियोगिता का विषय था मेरी मां। प्रतियोगिता में सफल प्रतियोगियों को पुरस्कृत किया गया। चित्रांकन प्रतियोगिता में मोहम्मद अमजद, सुब्रतो चक्रवर्ती एवं रोहित को क्रमश: प्रथम, द्वितीय और तृतीय स्थान मिला। कार्टून प्रतियोगिता में कुलदीप मिंज एवं निबंध प्रतियोगिता में आदित्यलोक झा एवं अभय कुाूर को प्रथम व द्वितीय स्थान मिला।ड्ढr एड्स जागरूकता कार्यक्रमड्ढr रांची। एचइसी मुख्यालय में 20 को एड्स जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन राज्य एड्स कंट्रोल सोसाइटी द्वारा किया गया। इस दौरान एड्स की रोकथाम के संबंध में जानकारी दी गयी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: मानवाधिकार के लिए मिलजुल कर संघर्ष करं