अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अगले साल 19 करोड़ का मुनाफा कमाने का लक्ष्य

प्रोमोशन से वंचित कामगारों के मामले पर प्रबंधन पुनर्विचार कर रहा है। इसके लिए एक कमेटी बनायी जायेगी। इस रिव्यू कमेटी के अध्यक्ष कार्मिक निदेशक रहेंगे। तीनों प्लांटों के जीएम को भी कमेटी में रखा गया है। शीघ्र ही साक्षात्कार की तिथि भी निर्धारित हो जायेगी। इस साल एचइसी ने सभी कामगारों को प्रोमोशन नहीं दिया गया। जबकि अभी तक कामगारों के लिए कालबद्ध प्रोन्नति का नियम लागू है। लेकिन अधिकारी-कामगार का संतुलन बनाये रखने के लिए प्रबंधन ने सभी कामगारों को प्रोन्नति नहीं दी। इसका यूनियनों ने विरोध किया था। आंदोलन भी किये गये। बाद में यह तय किया गया कि इस साल के लिए प्रबंधन पुनर्विचार करगा। बाद में आवश्यकतानुसार ही पदोन्नति दी जायेगी। स्थायी, ठेका श्रमिकों से सामूहिक आंदोलन की अपीलरांची। हटिया मजदूर यूनियन ने पे रिवीजन एवं स्थायीकरण के लिए संयुक्त आंदोलन का आह्वान किया है। इसके लिए ठेका एवं स्थायी कामगारों से एक मंच पर आने की अपील की गयी है। यूनियन की एचइसी मुख्यालय पर हुई सभा को संबोधित करते हुए महासचिव भवन सिंह ने कहा कि राज्य सरकार से पैकेा मिलने के बाद एचइसी बीमार उद्योगों की श्रेणी से बाहर आ गया है। इसलिए प्रबंधन को अब पे रिवीजन, एरियर एवं अन्य लंबित मांगे पूरी करनी चाहिए। सभा में ठेका श्रमिकों को स्थायी करने, सभी कर्मचारियों के लिए सेवानिवृत्ति उम्रसीमा 60 साल करने, ठेका श्रमिकों को सुरक्षा उपकरण देने की मांग की गयी। कहा गया कि एचइसी संघर्ष मोरचा को आंदोलन का कार्यक्रम तय करना चाहिए। यूनियन मोरचा को पूरा समर्थन देगी। सभा को राजेंद्र राम, बाउरी महतो एवं नरश राम ने भी संबोधित किया।ड्ढr गवर्नर को खुला पतड्र्ढr रांची। एचइसी विस्थापित क्रांतिकारी संघर्ष समिति ने राज्यपाल के नाम खुला पत्र जारी किया है। इसमें कहा गया है कि एचइसी की जो जमीन को खाली बतायी जा रही है, वह खाली नहीं है। अधिग्रहण के समय से ही इस पर विस्थापित खेती कर रहे हैं। विस्थापितों को न मुआवजा मिला और न नौकरी। 80 प्रतिशत विस्थापित आदिवासी एवं अल्पसंख्यक हैं। समिति ने पांचवीं अनुसूची की रक्षा करते हुए न्याय दिलाने की अपील की है। प्रोडक्ट निर्यात की योजना पर काम शुरूरांची। एचइसी अपने उत्पादों को निर्यात करने की योजना बना रहा है। इसके लिए वह एचएमटी इंटरनेशनल कंपनी का सहयोग लेगा। दोनों कंपनियों के बीच इसके लिए वार्ता जारी है। एचएमटी के अधिकारी इन दिनों एचइसी के दौर पर हैं।ड्ढr एचइसी ने कई कंपनियों के साथ एमओयू किया है। इसमें माइनिंग, न्यूक्िलयर एनर्जी जसे क्षेत्र महत्वपूर्ण है। अंतरराष्ट्रीय स्तर की कंपनियों से तकनीक हासिल करने के बाद नये उत्पादों के साथ अंतरराष्ट्रीय बाजार में जाने वाला है। निर्यात के लिए वह किसी कंपनी को मार्केटिंग का काम देना चाहता है। इसी सिलसिले में एचएमटी इंटरनेशनल के अधिकारियों के साथ बात हो रही है। हाल ही में बेलारूस की कंपनी के साथ एचइसी ने डोर एवं डंफर के निर्माण के लिए एमओयू किया है। शीघ्र ही इस पर काम भी होने वाला है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: अगले साल 19 करोड़ का मुनाफा कमाने का लक्ष्य