अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अनोखा होगा नालंदा विवि

प्रसिद्ध अर्थशास्त्री व मेंटर ग्रुप के प्रमुख अमर्त्य सेन ने कहा कि युद्ध, आतंक, हिंसा एवं भय से मुक्त विश्व निर्माण के उद्देश्य से स्थापित नालंदा विश्वविद्यालय के खोये गौरव को वापस लाया जायेगा। यूनिवर्सिटी ऑफ नालंदा निश्चय ही विश्व में इस दिशा में कार्य करते हुए अनोखा बनेगा। उन्होंने कहा कि एग्जेक्यूटिव व एकेडमिक काउंसिल द्वारा स्थापना की रूपरखा की दिशा में फाइनल निर्णय शीघ्र ही लिया जाएगा।ड्ढr ड्ढr एकेडमिक सेशन शुरू करने में अभी कुछ वक्त लग सकता है। इसकी स्थापना में चीन, जापान, सिंगापुर व अन्य एशियाई देश भी सहयोग कर रहे हैं। यहां कुल छह विषयों की उच्चस्तरीय पढ़ाई व शोध किये जाएंगे। उन्होंने बताया कि विश्वविद्यालय की स्थापना में विश्व भर के विद्वानों का सहयोग लिया जा रहा है। सिंगापुर के विदेश मंत्री जॉर्ज येयो ने कहा कि बौद्ध धर्मावलंबियों के लिए नमनीय नालंदा की धरती यूनिवर्सिटी के निर्माण के बाद और ही उपयोगी हो जाएगी। विश्वविद्यालय की स्थापना में नालंदा का सुनहरा भविष्य छुपा हुआ है। यूनिवर्सिटी ऑफ नालंदा न सिर्फ बिहार व भारत बल्कि एशिया के गौरव को बढ़ाएगा। फिर से नालंदा की धरती पर विदेशी छात्र शोध व शांति की खोज में आएंगे।ड्ढr ड्ढr मेंटर ग्रुप के सदस्यों ने प्रस्तावित यूनिवर्सिटी के स्थल का अवलोकन किया। मौके पर लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स के प्रो. मेघनाथ देसाई, योजना आयोग के सचिव सुभाष मणि, राज्यसभा सदस्य एनके सिंह, सिंगापुर के हाई कमिश्नर यूं ग्वोट कौंग के साथ डीएम अनुपम कुमार, एसपी विनीत विनायक, राजगीर के एसडीओ कुलदीप नारायण, डीएसपी अशोक प्रसाद आदि भी मौजूद थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: अनोखा होगा नालंदा विवि