दालों और अनाजों की कीमतें घटने से खाद्य महंगाई कमी - दालों और अनाजों की कीमतें घटने से खाद्य महंगाई कमी DA Image
11 दिसंबर, 2019|2:10|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दालों और अनाजों की कीमतें घटने से खाद्य महंगाई कमी

दालों और अनाजों की कीमतें घटने से खाद्य महंगाई कमी

दालों, अनाजों और सब्जियों की कीमतों में गिरावट से देश की वार्षिक खाद्य महंगाई की दर छह मार्च को समाप्त सप्ताह में गिरकर 16.30 प्रतिशत हो गई। इसके पिछले सप्ताह खाद्य महंगाई की दर 17.81 प्रतिशत थी।

केंद्रीय उद्योग मंत्रालय द्वारा गुरुवार को जारी थोक मूल्य सूचकांक पर आधारित आंकड़ों के अनुसार पिछले सप्ताह की तुलना में खाद्य वस्तुओं की महंगाई में 1.09 प्रतिशत और गैर खाद्य वस्तुओं की महंगाई में 0.6 प्रतिशत की गिरावट आई है।

वार्षिक आधार पर अधिकांश आवश्यक वस्तुओं की कीमतों में काफी वृद्धि हुई है, यद्यपि प्याज 9.87 प्रतिशत सस्ता हुआ है।

आवश्यक वस्तुओं की कीमतों में 52 सप्ताह की अवधि में हुई वृद्धि निम्नलिखित है :

-दालें : 29.77 प्रतिशत
-आलू : 9.84 प्रतिशत
-सब्जियां : 2.37 प्रतिशत
-दूध : 15.31 प्रतिशत
-गेहूं : 15.69 प्रतिशत
-अनाज : 11.40 प्रतिशत
-प्याज :(-) 9.87 प्रतिशत
-फल : 11.92 प्रतिशत
-चावल : 8.53 प्रतिशत

केंद्रीय वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी के मुद्रा स्फीति की दर के दहाई अंक में पहुंचने की चेतावनी देने के दो दिन बाद थोक मूल्य सूचकांक के ताजा आंकड़े सामने आए हैं।

वित्तीय वर्ष 2010-11 के बजट पर चर्चा के दौरान मुखर्जी ने 16 मार्च को राज्यसभा में कहा, ''मार्च तक महंगाई की दर दहाई अंक में पहुंचने से मुझे कोई आश्चर्य नहीं होगा। हमारी प्राथमिक चिंता खाद्य महंगाई है। इससे निपटा जाना चाहिए।''

उधर केंद्रीय कृषि मंत्री शरद पवार ने गुरुवार को कहा कि चीनी सहित आवश्यक वस्तुओं की कीमतों में अब गिरावट आ रही है।

खरीफ अभियान पर एक सम्मेलन के उद्घाटन के बाद पवार ने संवाददाताओं से कहा, ''चीनी, आलू और अन्य आवश्यक वस्तुओं की कीमतों में कमी हो रही है। स्थिति निश्चित रूप से बदल रही है और यह एक अच्छा संकेत है।''

देश की वार्षिक मुद्रा स्फीति की दर फरवरी माह में बढ़कर 9.89 प्रतिशत हो गई। जनवरी महीने में मुद्रा स्फीति की दर 8.56 प्रतिशत थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दालों और अनाजों की कीमतें घटने से खाद्य महंगाई कमी