आंगनबाड़ी परियोजना में व्यय का विस्तृत ब्यौरा पेश करें - आंगनबाड़ी परियोजना में व्यय का विस्तृत ब्यौरा पेश करें DA Image
15 नबम्बर, 2019|12:58|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आंगनबाड़ी परियोजना में व्यय का विस्तृत ब्यौरा पेश करें

दिल्ली हाईकोर्ट ने गरीब बच्चों और महिलाओं को शिक्षा और भोजन मुहैया कराने के लिए चल रही आंगनबाड़ी परियोजना में सरकारी पैसे के दुरुपयोग पर सरकार को व्यय का विस्तृत ब्यौरा पेश करने को कहा है।

कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश मदन बी लोकुर और न्यायाधीश मुक्ता गुप्ता की खंडपीठ ने समग्र बाल विकास परियोजना में चल रहे घोटाले की जांच कराने की मांग करने वाली पीआईएल पर व्यय संबंधी ब्यौरा तलब कर लिया। अदालत ने याचिका में दर्शाए गए सरकारी आंकड़ों में ही धन के दुरुपयोग की आशंका पैदा होने का हवाला देते हुए सरकार से 21 अप्रैल तक खर्च का ब्यौरा, लाभार्थियों की संख्या, सुविधाएं और निगरानी तंत्र के बारे में विस्तृत जानकारी देने को कहा।
याचिकाकर्ता पक्ष के वकील आर. एन. महलावत ने अदालत को बताया कि अकेले दिल्ली में ही कुल आवंटित राशि का 80 प्रतिशत हिस्सा माल ढुलाई एवं अन्य मदों में खर्च हो जाता है जबकि बच्चों को भोजन एवं सुविधाओं पर मात्र 20 प्रतिशत राशि ही खर्च होती है। इतना ही नहीं रेडीमेड प्रसंस्कृत भोजन की सप्लाई का काम उन फर्मो को दिया गया है जो वजूद में ही नहीं हैं।
याचिका के मुख्य बिंदू  
आंगनबाड़ी के देश भर में कुल लाभार्थी- लगभग पांच करोड़
दिल्ली में लाभार्थी- 6.6 लाख
प्रति दिन प्रति लाभार्थी- 4 रुपए
प्रतिदिन होने वाला खर्च- 20 करोड़ रुपए
इसका सिर्फ 20 प्रतिशत भोजन एवं अन्य सुविधाओं पर खर्च होता है
बाकी 80 प्रतिशत खर्च माल ढुलाई, वाहन खर्च एवं आधारभूत ढांचे पर

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आंगनबाड़ी परियोजना में व्यय का विस्तृत ब्यौरा पेश करें