बिजली कटौती से उत्पादन लागत बढ़ी - बिजली कटौती से उत्पादन लागत बढ़ी DA Image
19 नबम्बर, 2019|10:42|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिजली कटौती से उत्पादन लागत बढ़ी

विद्युत कटौती का असर जिले में स्थापित औद्योगिक इकाइयों में पड़ने लगा है। क्षेत्र की छोटी दजर्नों फैक्ट्रियों में विद्युत आपूर्ति बाधित रहने से उत्पादन कार्य बुरी तरह प्रभावित हो गया है। चार से छह घंटे तक उद्योगों मे हो रही कटौती के चलते जनरेटर से उत्पादन लागत 5 फीसदी तक बढ़ गयी है

तराई में लंबे समय से विद्युत आपूर्ति बदहाल है। जिसका उद्योगों पर प्रतिकूल असर पड़ रहा है। स्थिति यह है कि क्षेत्र के स्टील उद्योगों में 5 से रात 12 बजे तक सात घंटे तथा सायं 6 से 11 बजे तक पांच घंटे की बिजली कटौती की जा रही है।  सिडकुल इंटरप्रेन्योर वैलफेयर सोसायटी के अध्यक्ष दिनेश धीर का कहना है कि विद्युत आपूर्ति इसी तरह बाधित रही तो छोटे उद्योग बदहाली की कगार पर पहुंच जाएंगे।

उन्होंने बताया कि बड़ी कंपनियां तो जनरेटर आदि की व्यवस्था कर उत्पादन कर रही हैं, जिससे उद्योगों की उत्पादन लागत 5 फीसदी तक बढ़ गयी है लेकिन उत्पादन लागत बढ़ने पर भी उद्योग उत्पादों के मूल्य में कोई बढ़ोतरी नहीं कर सकते हैं। उन्होंने बताया कि छोटी फैक्ट्रियों के सामने बिजली की वैकल्पिक व्यवस्था नहीं होने से खासी परेशानी हो रही है।

पिटकुल के अधिशासी अभियंता कार्तिकेय दुबे ने बताया कि उद्योगों में पांच से सात घंटे तक बिजली की कटौती की जा रही है। उन्होंने बताया कि बिजली कटौती की यह व्यवस्था ऋषिकेश फीडर से ही की जा रही है।उन्होंने बताया कि बिजली की आपूर्ति सामान्य होने पर ही उद्योगों में बिजली की आपूर्ति सामान्य हो सकेगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बिजली कटौती से उत्पादन लागत बढ़ी