बरेली में दंगा, गाजियाबाद में संकट - बरेली में दंगा, गाजियाबाद में संकट DA Image
13 नबम्बर, 2019|12:40|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बरेली में दंगा, गाजियाबाद में संकट

बरेली के हालात खराब हुए हैं, बुरा हाल गाजियाबाद के लोगों का हो गया है। पहले से जाम से कराह रहे एनएच-24 के हालत अब और बदतर हो गए हैं। ऐसा इसलिए हो रहा है, क्योंकि गाजियाबाद के पुलिस-प्रशासन के अफसर सब काम छोड़कर हाइवे पर एक-एक नेता की चेकिंग में जुटे हैं। इसी चैकिंग ने ट्रेफिक का पूरा गणित गड़बड़ा दिया है।
अफसरों के मुताबिक, बरेली में भीषण दंगा होने के बाद वहां के डीएम ने शासन से साफ कह दिया है कि गाजियाबाद की तरफ से कोई नेता या धर्मगुरू उस ओर न आने पाए। शासन ने इस सम्बंध में गाजियाबाद प्रशासन के पेंच कस दिए हैं, इसलिए अब यूपी बार्डर पर पूरा अमला तैनात नजर आ रहा है। वाहनों की लगातार चेकिंग कराई जा रही है, ताकि कोई नेता छिपकर बरेली को कूच न कर जाए। दो दिन पहले इसी चक्कर में पूर्व केन्द्रीय मंत्री मेनका गांधी को रोका गया था। सोमवार को जामा मस्जिद दिल्ली के शाही इमाम अहमद बुखारी के आने की खबर के बाद घंटों चेकिंग हुई थी। मंगलवार को वही कहानी कांग्रेस नेता राशिद अल्वी के साथ भी दोहराई गई। प्रशासन ने इन नेताओं को न केवल रोका, वल्कि यह लिखवाकर भी लिया है कि वे बरेली नहीं जाएंगे। तब कहीं उनको आगे जाने दिया गया। इमाम अहमद बुखारी को कल रामपुर तक जाने की अनुमति दी गई थी और मेनका गांधी को बदायूं तक जाने की।


कारों की लगातार चेकिंग की वजह से एनएच-24 पर तीन दिन से भीषण जाम लग रहा है। हालात इतने बुरे हैं कि विजयनगर से यूपी बार्डर तक का फासला तय करने में कई-कई घंटे लग रहे हैं। मगर बरेली की चिंता में डूबे अफसर गाजियाबाद में ट्रेफिक के बिगड़े हालात से टेंशन में तो हैं मगर कुछ करने की स्थिति में नहीं।
एडीएम सिटी एसके श्रीवास्तव बताते हैं कि ऐसा सुरक्षा कारणों से किया जा रहा है, ताकि इस तरह से कोई नेता दंगाग्रस्त बरेली न पहुंच सके। हाइवे पर जाम न लगे, इसके लिए अतिरिक्त ट्रेफिक पुलिस को जुटाया गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बरेली में दंगा, गाजियाबाद में संकट