26 साल बाद मिला 1984 सिख दंगा पीड़ितों को न्याय - 26 साल बाद मिला 1984 सिख दंगा पीड़ितों को न्याय DA Image
12 नबम्बर, 2019|1:25|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

26 साल बाद मिला 1984 सिख दंगा पीड़ितों को न्याय

नगर के चार थाना क्षेत्रों के 135 सिख दंगा पीड़ितों के प्रकरणों में से 90 का निस्तारण मंगलवार को ‘सिंगल विण्डो सिस्टम’ के माध्यम से कर दिया गया। 26 साल बाद शुरू हुई इस प्रक्रिया से दंगा पीड़तों ने राहत की सांस ली। यह क्रम देर शाम तक चला। बुधवार को स्वरूप नगर, नवाबगंज, काकादेव और कल्याणपुर थानों के दंगा पीड़ितों के मामले सुने जाएँगे।

कानपुर सिख वेलफेयर सोसाइटी (केएसडब्लूएस) के इस अभियान में स्वयं जिलाधिकारी अमृत अभिजात, एसीएम सप्तम राज कुमार, अपर जिलाधिकारी शकुन्तला गौतम और तहसीलदार समेत अनेक प्रशासनिक अफसर और थाना नजीराबाद, कर्नलगंज, ग्वालटोली और कोहना के प्रभारी एक ही स्थान पर मौजूद थे। ज्यादातार मामले थाना नजीराबाद के थे, इनमें से 90 फीसद मामले शपथ पत्र आदि लेकर निस्तारित कर दिए गए। अब इन्हें मुआवजा मिल सकेगा। अन्य तीन थानों के प्रकरण करीब दो दजर्न थे।

सुबह नौ बजे शुरू हुआ यह अभियान शाम सात बजे तक चला। कुछ ही मामले ऐसे आए जिनमें प्राथमिकी को लेकर समस्याएँ आई। इन्हें हल करने के लिए भी दंगा पीड़ितों को नहीं दौड़ना पड़ेगा। थाना स्तर पर यह काम पूरा कर सौंपा जाएगा। संख्या अधिक होने के कारण सुबह टोकन का वितरण किया गया। इसके बाद एक के बाद एक मामले को सुना गया। सिर्फ इतना ही नहीं पहली बार दंगा पीड़ितों की प्रशासनिक स्तर पर आवभगत भी की गई।

जिन 75 लोगों के बारे में तहसीलदार को पते नहीं मिले थे, उनमें से आठ लोग मंगलवार को हाजिर हो गए। सरदार मोहकम सिंह ने बताया कि गुरुद्वारों के माध्यम से सिख दंगा पीड़ितों को जागरूक किया जाएगा। केएसडब्लूएस की ओर से खासतौर पर गुरुविन्दर सिंह, जगतार सिंह, हरप्रीत सिंह, करतार सिंह, नरेन्द्रजीत सिंह मिन्टा, हरजीत सिंह और राजू खण्डूजा आदि मौजूद थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:26 साल बाद मिला 1984 सिख दंगा पीड़ितों को न्याय