नवसंवत्सर के शुभारंभ पर गंगा तट पर हुए सांस्कृतिक कार्यक्रम - नवसंवत्सर के शुभारंभ पर गंगा तट पर हुए सांस्कृतिक कार्यक्रम DA Image
13 नबम्बर, 2019|9:42|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नवसंवत्सर के शुभारंभ पर गंगा तट पर हुए सांस्कृतिक कार्यक्रम

वाराणसी में गंगा के तट पर शोभनकत नामक नव विक्रम संवत्सर का शुभारंभ मंगलवार को भव्य सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ हुआ। इस अवसर पर विभिन्न मंदिरों में विशेष पूजन कार्यक्रमों का आयोजन किया गया।

इस अवसर पर मंगलवार की सुबह नगरवासियों ने सबसे पहले उगते सूरज को अर्घदान कर शोभनकत नामक संवत्सर का स्वागत किया और उनकी विधिवत पूजा की।

विक्रमी संवत 2067 के चढ़ते सूर्य को मंगलवार को नगर वासियों ने अर्घ देकर राष्ट्र के मंगल की कामना की और बाद एक-दूसरे को बधाई दी।

हिंदी नववर्ष (नव संवत्सर) पर विश्व हिंदू परिषद व भारतीय जनता पार्टी की विभिन्न इकाइयों ने नगर के मुख्य चौराहों पर भव्य सजावट की तथा लोगों को तिलक लगाकर उनका अभिवादन किया।

मंगलवार के दिन राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के लोगों ने पूर्ण गणवेश में लंका स्थित काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के सिंह द्वार से सोनारपुरा, चेतगंज, भेलूपुर, दुर्गाकुंड होते हुए माधवकुंज पार्क तक पद संचलन किया। जिसमें लगभग दो हजार स्वयंसेवकों ने भाग लिया।

इस अवसर पर शाम को तुलसी घाट पर संकट मोचन फाउंडेशन की तरफ से सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन भी किया गया।

इस मौके पर बड़ी संख्या में लोगों ने काडरें तथा एस एम एस के माध्यम से एक-दूसरे को नववर्ष की शुभकामना दी और शोभनकत नामक इस संवत्सर में सभी का मंगल होने की कामना की।

 

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:नवसंवत्सर के शुभारंभ पर गंगा तट पर हुए सांस्कृतिक कार्यक्रम