दोबारा अंग उगाने के करीब वैज्ञानिक - दोबारा अंग उगाने के करीब वैज्ञानिक DA Image
15 नबम्बर, 2019|12:40|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दोबारा अंग उगाने के करीब वैज्ञानिक

दोबारा अंग उगाने के करीब वैज्ञानिक

सिर कटने के बाद फिर से नया उगने का जिक्र अब तक हम पुराणों आदि में पाते थे। वैज्ञानिकों ने इस चमत्कार को हकीकत में बदलने की राह खोलने का दावा किया है। फिलाडेल्फिया स्थित विस्टार इंस्टीट्यूट के अनुसंधानकर्ताओं के एक अंतरराष्ट्रीय दल ने पाया कि पी-21 नाम की जीन टूट-फूट की मरम्मत और घाव भरने की प्रक्रिया को बाधित करता है।

कुछ सरीसृपों और पानी व जमीन दोनों जगह रहने वाले उभयचरी जीवों में कटे अंग फिर से निर्माण की क्षमता होती है। विकास की प्रक्रिया में यह क्षमता अन्य जीवों में धीरे-धीरे समाप्त हो गयी। वैज्ञानिकों का दावा है कि पी-21 को हटा कर मनुष्य सहित अन्य जीवों में भी यह चमत्कारिक क्षमता बहाल की जा सकेगी। इन वैज्ञानिकों ने चूहे में इस जीन से संबंधित प्रयोग किया।

वैज्ञानिकों ने पाया कि पी-21 को हटा देने से इन जीवों में नष्ट और क्षतिग्रस्त ऊतकों की फिर से मरम्मत की क्षमता हासिल हो गयी। स्तनधारी जीवों में घाव भरने की प्रक्रिया बिल्कुल अलग है।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दोबारा अंग उगाने के करीब वैज्ञानिक