बोनस राशि में कटौती कर सकती हैं चीनी मिलें - बोनस राशि में कटौती कर सकती हैं चीनी मिलें DA Image
19 नबम्बर, 2019|10:44|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बोनस राशि में कटौती कर सकती हैं चीनी मिलें

चीनी के गिरते दामों ने शुगर लॉबी की नींद उड़ा दी है। डोईवाला मिल प्रबंधन द्वारा बोनस राशि में बीस रुपए की कटौती करने के बाद राज्य की अन्य चीनी मिलें भी इस दिशा में कदम बढ़ा सकती हैं। हालांकि अब बहुत ज्यादा गन्ना भी शेष नहीं है।

एक सप्ताह पहले डोईवाला चीनी मिल ने बोनस राशि में बीस रुपए कम कर दिए थे। इसकी वजह चीनी के गिरते दाम बताया गया था। वैसे भी चीनी के दाम साढ़े चार हजार रुपए प्रति क्विंटल से घटकर 3200 रुपए के आसपास आ गए हैं। जानकारी के मुताबिक डोईवाला चीनी मिल ने छह फरवरी को 4060 रु. प्रति क्विंटल की दर से चीनी बेची थी। लेकिन इसके बाद आठ फरवरी को 3700 पर आ गया। 19 फरवरी तक चीनी का रेट 3475 रु. तक गिर गया।

दो मार्च को थोड़े उछाल के साथ चीनी की दर 3500 रु. पहुंची लेकिन 12 मार्च को 3230 और 15 मार्च को 3220 रुपए प्रति क्विंटल की दर से चीनी बेचनी पड़ी। चीनी के गिरते दाम केवल डोईवाला को ही नहीं बल्कि पूरे चीनी उद्योग को प्रभावित कर रहे हैं। संभावना यह है कि राज्य की बाकी चीनी मिलें भी निकट भविष्य में गन्ना बोनस राशि में कटौती कर सकती है। उत्तराखंड में गन्ना पहले ही काफी कम था। लेकिन फिर भी किसान कुछ हद तक प्रभावित होगा। वैसे भी अप्रैल तक पेराई सत्र पूरी तरह से समाप्त हो जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बोनस राशि में कटौती कर सकती हैं चीनी मिलें