DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बहुत अधिक खेल नहीं खेलने चाहिए बच्चों को: विशेषज्ञ

यूं तो खेलों को बच्चों के शारीरिक विकास के लिहाज से बेहतर गतिविधि माना जाता है लेकिन विशेषज्ञों ने चेतावनी दी है कि अत्यधिक खेलकूद से उनके जोड़ों और मांसपेशियों पर जोर पड़ सकता है। अगर बच्चों की खेलकूद संबंधी गतिविधियों पर नजर न रखी जाए तो उन्हें तकलीफ का सामना करना पड़ सकता है। माता-पिता, प्रशिक्षकों और शिक्षकों आदि को बच्चों की क्षमता से परिचित होना चाहिए और उन्हें इसके मुताबिक ही खेलकूद का अवसर देना चाहिए। कोलोन स्थित फेडरेशन ऑफ चाइल्ड एंड यूथ पीडियाट्रीशियंस (बीवीकेजे) के युलिरिच फेगेलर ने बताया, ‘‘युवावस्था के दौरान बच्चों की मांसपेशियां मजबूत होती हैं लेकिन उनका शरीर कमजोर होता है क्योंकि उनकी हड्डियां मांसपेशियों के ऊतकों की तुलना में अधिक तेजी से विकसित होती हैं।’’ फेगेलर ने कहा कि बच्चों को खेल प्रतियोगिताओं आदि में भाग लेने की अनुमति देने के पहले मां बाप को चिकित्सकों से सलाह जरूर लेनी चाहिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: ‘बहुत ज्यादा खेल नहीं खेलने चाहिए बच्चों को’