रैली में छा गया कुमाऊँनी रंग - रैली में छा गया कुमाऊँनी रंग DA Image
9 दिसंबर, 2019|11:55|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रैली में छा गया कुमाऊँनी रंग

रैली में कार्यकाताओं का उत्साह देखते ही बन रहा था। खासतौर से कुमाऊँ मण्डल के जागृति जत्थे ने रंग जमाया। अल्मोड़ा से आए भुवन के दल में कलाकार ढोल, दमऊ, नगाड़ा, तुरी, मशक बीन और झांझ लिए हुए थे। पारम्परिक सतरंगी वेशभूषा के साथ नाचते गाते बजाते कलाकारों ने हर एक का ध्यान खींचा।

महाराष्ट्र से आए महिला दल में महिलाओं ने मराठी परम्परा में साड़ी पहनी थी तो राजस्थानी जत्थे ने राजस्थानी पगड़ी, वहीं पंजाब से आए कार्यकर्ताओं के हाथ में कृपाण था।अपने उत्साह को दिखाने के लिए किसी कार्यकर्ता ने नीली साड़ी पहन रखी थी तो किसी ने नीली सलवार के साथ सफेद कमीज। सर पर नीली टोपियाँ और गले में नीले गमछे भी खूब दिखे। नीला रंग छाते से लेकर महंगी गाड़ियों तक में दिखा।

रैली में आए लोगों से अपने व्यापार को चमकाने के लिए स्थानीय दुकानदारों ने कहीं टीवी खोल दिया तो किसी ने रास्ते में लगे लाउड स्पीकर के पास ही अपना खोमचा लगा लिया। पटरी दुकानदार भी तरह तरह की रोचक बातों से आने-जाने वालों का ध्यान अपनी ओर खीचने की कोशिश में लगे थे। शर्बत बेचने वाला कह रहा था ‘पीयो ज्यादा, चलो ज्यादा’ तो रेवड़ी विक्रेता को कहते सुना गया कि ‘लखनऊ की रेवड़ी नहीं ली, तो कुछ नहीं लिया।’

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:रैली में छा गया कुमाऊँनी रंग