हरिद्वार कुंभ में सोवमती अमावस्या पर अखाड़ों का शाही स्नान - हरिद्वार कुंभ में सोवमती अमावस्या पर अखाड़ों का शाही स्नान DA Image
20 नबम्बर, 2019|11:49|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हरिद्वार कुंभ में सोवमती अमावस्या पर अखाड़ों का शाही स्नान

हरिद्वार कुंभ में सोवमती अमावस्या पर अखाड़ों का शाही स्नान

सोमवती अमावस्या पर कुंभ के दूसरे शाही स्नान पर सोमवार को अखाड़ों सहित लाखों लोगों ने गंगा में स्नान किया।

कुंभ मेले का यह पहला स्नान है जिस पर सभी तेरहों अखाड़े स्नान कर रहे हैं। सुबह साढ़े नौ बजे सबसे पहले भारी सजधज और हजारों भक्तों के साथ अखाड़े के मंडलेश्वरो और आचार्य की शोभा यात्रा शुरू हुई।

निरंजनी अखाड़े के साथ ही आनन्द अखाड़े ने भी कुंभ मेले के दूसरे शाही स्नान पर सबसे पहले स्नान किया।
निरंजनों और आनन्द अखाड़े के बाद सुबह साढ़े नौ बजे ही जूना ने भी मायादेवी मंदिर मैदान से अपनी शाही शोभा यात्रा शुरू की। जूना अखाड़े की शाही में सबसे आगे अखाड़े की ध्वज रहे और इसके पीछे 10 हजार से अधिक नागा सन्यासीयों की जमात थी।

श्रद्धा और जयघोष के साथ संतों के लिए श्रद्धालु घंटों तक हाथजोडे़ शाही मार्ग के दोनों ओर खड़े रहे। जूना अखाड़े के शाही जलूस में विवादित शंकराचार्य नरेन्द्रानन्द भी शामिल थे। इसके अलावा पायलट बाबा के विदेशी अनुयाईयों की ही संख्या लोगों के आकर्षण का केन्द्र रही तो अखाड़े के ही महामंडलेश्वर सोहम बाबा द्वारा शाही जलूस में शामिल विभिन्न प्रदेशों के कलाकार की धार्मिक प्रस्तुतियों ने लोगों का ध्यान खींचा।

जूना अखाडे़ के महामंडलेश्वरों की पालकी के पीछे आवाहन अखाड़े और अग्नि अखाड़े के रथ और पालकियों को शामिल किया गया। रात्रि लगभग 12 बजे से शुरू हुए सोमवती अमावस्या पर कुंभ के दूसरे शाही स्नान पर भारी संख्या में लोगों ने गंगा स्नान शुरू कर दिया था।

इस कुंभ मेले का यह पहला ऐसा स्नान था जिस पर हरिद्वार के 15 किलो मीटर लंबे सभी घाट भीड़ से खचाखच भरे रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:हरिद्वार कुंभ में सोवमती अमावस्या पर अखाड़ों का शाही स्नान