कांग्रेस ने उछाला स्रावंती मामला - कांग्रेस ने उछाला स्रावंती मामला DA Image
11 दिसंबर, 2019|8:53|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कांग्रेस ने उछाला स्रावंती मामला

कांग्रेस के चार विधायकों ने सरकार पर काशीपुर की स्नवंती एनर्जी प्रा.लि. को अनुचित लाभ देने का आरोप लगाया है। विधायकों ने कहा कि राज्य सरकार ने इस कंपनी को एनर्जी के बजाय इंडस्ट्री में घोषित किया और राज्य को मिलने वाली नेचुरल गैस का कोटा भी इसी कंपनी को दे दिया है। इतना ही नहीं कंपनी को प्लांट लगाने के लैंड यूज चेंज किया गया व स्टांप ड्यूटी भी माफ की गई। विधायकों का कहना था राज्य सरकार कांग्रेस व भाजपा शासन के सभी घोटालों की सीबीआई से जांच कराए।

टिहरी विधायक किशोर उपाध्याय, रानीखेत के करण मेहरा, अल्मोड़ा के मनोज तिवारी व कनालीछीना के विधायक मयूख महर ने होटल द्रोण में पत्रकारों से बातचीत में कहा कि ऋषिकेश भूमि घोटाला व जल विद्युत परियोजनाओं के आवंटन में धांधली के बाद अब काशीपुर में एक बड़ी अनियमितता मिली है। गेल (गैस अथॉरिटी ऑफ इंडिया लि.) की पाइप लाइन काशीपुर तक बिछाए जाने का काम चल रहा है।

इस लाइन से मिलने वाली नेचुरल गैस का राज्य का कोटा प्रदेश सरकार ने स्नवंती एनर्जी प्राईवेट लि. काशीपुर को दे दिया है। कंपनी ने सौ रुपए के स्टांप पर लोगों से जमीन ले ली। सरकार ने लैंड यूज चेंज कर दिया और स्टांप डयूटी भी माफ कर दी। यह कार्य 4 अक्टूबर 2009 को किया गया है। उन्होंने आरोप लगाया कि स्नवंति की 46.753 एकड भूमि के लिए सरकार की दरियदिली किसी घोटाले से कम नहीं है।

कांग्रेस विधायकों ने कहा कि राज्य की इंडस्ट्री का गैस कोटा कैसे एक ही कंपनी को दिया गया। इस कंपनी ने 165 मेगावाट बिजली बनाने की बात कही थी लेकिन अनुमति 225 मेगावाट बिजली उत्पादन की दी गई है। कांग्रेस विधायकों ने कहा कि इस मामले को सदन शुरू होने से पहले कांग्रेस विधानमंडल दल की बैठक में रखा जाएगा।

बैठक में इस मुद्दे पर रणनीति तय की जाएगी। विधायकों ने सरकार को कांग्रेस व भाजपा शासन के सभी घोटालों की सीबीआई जांच कराने की चुनौती भी दी। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार पर भरोसा नहीं किया जा सकता, इसलिए मुख्यमंत्री सीबीआई को पत्र लिखकर जांच कराएं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कांग्रेस ने उछाला स्रावंती मामला