प्यारे तेरे बोल - प्यारे तेरे बोल DA Image
20 नबम्बर, 2019|11:52|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्यारे तेरे बोल

क्या आप जानते हैं कि आपके बोलने की कला पर ही आपकी सफलता सबसे ज्यादा निर्भर करती है। आपका बोलना ही आपके व्यवहार और व्यक्तित्व का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा है। हो सकता है अभी तक इस तरफ आपका ध्यान ही न गया हो। जरा गौर करें कि आपके आसपास मौजूद कामयाब लोगों की बोलचाल कैसी है? अपनी बोली से ही लोगों का दिल आप भी जीत सकते हैं। नोट करें चंद नुस्खे:

- बोलते समय तरह-तरह से चेहरा न बनाएं। बेवजह अपने हाथ-पैर और सिर न हिलाएं। बहुत जरूरी न हो तो दो लोगों के सामने किसी एक से फुसफुसाकर या बहुत धीमे छिप कर बोलने से परहेज करें।

- शब्दों को चबाकर बोलने से बाज आएं। किसी से नीचे मुंह करके बात न करें। 

- गौर करें कि कहीं बोलते-बोलते आप उत्तेजित तो नहीं हो जाते।

- बात करते हुए कहीं बार-बार आपकी जुबान तो नहीं अटकती। इससे उबरने की कोशिश करें।

- आप सिर या माथे पर हाथ रखने, होंठ चबाने, उंगलियां चटकाने जैसी कोई हरकत तो नहीं करने लगते। 

- सामने वाले व्यक्ति से आंखें मिलाकर बात करने से आपका आत्मविश्वास झलकता है। याद रखिए, इधर-उधर नजरें घुमाते हुए बात करने से सामने वाले पर अच्छा असर नहीं पड़ता।

- अपनी बात का अचानक प्रसंग बदलकर बीच में ही दूसरी बात करने लगना दूसरों को अखरता है।

- जरूरत से बड़ा मुंह खोलकर बोलना भी अच्छा नहीं लगता। एक ही बात को बार-बार दोहराना, अस्पष्ट बात बोलना, बहुत बोलना, बहुत रुक रुककर बोलना आपके सामने वाले को खटकता है। 

- बोलते समय अचानक लम्बी चुप्पी धारण कर लेने से भी लोग बोर होते हैं। 

- अपने उच्चारण पर भी गौर करें। आप दर्पण के सामने किसी किताब अखबार को साफ उच्चारण के साथ बोलकर पढ़ें। टेप करके खुद सुनें इससे अभ्यास से सुधार आएगा। 

- आप यदि अच्छे वक्ता हैं, तो यह अच्छी बात है पर इससे भी जरूरी है कि अच्छा सुनने वाले भी हों। किसी की बात पूरी होने से पहले उसे कभी बीच में टोक कर अपनी बात न रखें। ज्यादा अच्छा बोलने के चक्कर में अपनी ही हांकते रहने से लोग आपसे दूर होने लगेंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:प्यारे तेरे बोल