महिला विरोधी नीतियों का पुतला फूंका - महिला विरोधी नीतियों का पुतला फूंका DA Image
17 नबम्बर, 2019|1:19|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

महिला विरोधी नीतियों का पुतला फूंका

सामाजिक संगठन ‘पहल’ की ओर से सोनारपुरा चौराहे पर रविवार को महिला विरोधी नीतियों का प्रतीक पुतला फूंका गया। पुतला दहन के पूर्व निकली रैली में ‘बाल विवाह से आजादी’, ‘महिला हिंसा से आजादी’, ‘घरेलू हिंसा से आजादी’ आदि नारे लिखी तख्तियां लिए महिलाएं और बच्चों ने आवाज बुलंद की।

अन्तर्राष्ट्रीय महिला सप्ताह के समापन पर हरिश्चन्द्र घाट से सोनारपुरा तक रैली निकाली गयी। मौके पर हुयी संकल्प सभा को सम्बोधित करते हुए ममता ने कहा कि नेशनल फेमिली हेल्थ सर्वे के आंकड़े बेहद शर्मनाक हैं। केवल उप्र 50 प्रतिशत लड़कियों का विवाह 18 वर्ष की आयु के पूर्व हो जाता है।

भारत में प्रत्येक 6 घंटे में कहीं न कहीं महिला को या तो जिंदा जला दिया जाता है या आत्महत्या के लिए विवश किया जाता है। मौके पर महिलाओं के खिलाफ हो रहे अत्याचार पर अंकुश लगाने का संकल्प लिया गया। संचालन राजेश एवं धन्यवाद ज्ञापन अभिमन्यु ने किया। मौके पर निशा, वंदना, विजयता, मनोरमा, नमिता, सुनीता, संजना, महिमा, राधिका, चिंकी, कंचन, राजा, संदीप आदि मौजूद थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:महिला विरोधी नीतियों का पुतला फूंका