ऊना एक्स.में जहरखुरानों ने मां-बेटे को लूटा - ऊना एक्स.में जहरखुरानों ने मां-बेटे को लूटा DA Image
9 दिसंबर, 2019|10:12|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ऊना एक्स.में जहरखुरानों ने मां-बेटे को लूटा

ऊना से बरेली से आ रही ऊना एक्सप्रेस में जहरखुरानी गिरोह के बदमाशों ने मां-बेटे को नशीला पदार्थ सुघांकर लूट लिया। गिरोह की शिकार महिला व उसके बेटे को 12घंटे बाद भी होश नहीं आया। दोनों के बेहोश होने पर बदमाशों ने सामान से भरा बैग,चार हजार रूपए नकद व महिला का मोबाइल फोन लूट कर नौ-दो ग्यारह हो गया,रातभर बेहोशी की हालत में मां-बेटे ऊपर बर्थ पर चादर ओढ़ कर सोते रहे,सुबह गाड़ी के दिल्ली पहुंचने पर उसी बोगी में बैठे उसके जीजा छत्रपाल व बहन को बेहोशी के बारे में पता चला। लेकिन दिल्ली प्लेटफार्म पर उसे उतारने से सुरक्षा बलों ने मना कर आगे के लिए टाल दिया। छत्रपाल का कहना है अंबाला के पहले से ही दोनों बेहोशी में थे,जीआरपी अगर गाजियाबाद में नहीं उतारती तो दोनों की जान पर बन आती।


सुबह लगभग सात बजे ट्रेन के गाजियाबाद स्टेशन पर पहुंचने पर जीआरपी द्वारा बेहोशी की हालत में दोनों को उतारा गया,जहां से जिला एमएमजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। वहां दोपहर बाद तक भी दोनों बेहोशी की हालत में कुछ भी बोलने की स्थिति में नहीं है। महिला के पर्स से ऊना (हिमाचल प्रदेश) से आसफपुर (मुरादाबाद) का टिकट व मात्र 20 रूपए मिले। बाकी कोई भी सामान नही है। जहरखुरानी गिरोह की शिकार बनी महिला आंनदी 30 वर्ष पत्नी करण सिंह और उसका दस वर्षीय बेटा लकी है। मुरादाबाद के बहजोई थाना क्षेत्र के गांव मऊकठेर का रहने वाला करण सिंह मेहनत मजदूरी करने के लिए ऊना गया था। परिवार समेत करन वहीं रहता है। 
जीजा छत्रपाल ने बताया कि सास की तबियत खराब होने की खबर मिलने के बाद ही
वे अपने परिवार के साथ इस ट्रेन में अंबाला में सवार हुए थे जबकि साली आनंदी अपने बेटे लकी के साथ ऊना से चली। जनरन बोगी में सवार होने के बाद भी दोनों की मुलाकात नहीं हो पायी। जबकि आनंदी व लकी रात से ऊपर की सीट पर चादर ओढ़ बेहोश पड़े रहे। छत्रपाल ने बताया कि सुबह जाकर लकी के दिखाई देने पर उसे उठाने लगे तो नहीं उठने पर शक हुआ और ट्रेन के स्कॉट को सूचना दी गई। बताते हैं कि दिल्ली स्टेशन पर वहां के सुरक्षा बलों ने इसे नहीं उतारने दिया,इसी बीच ट्रेन के चल देने के कारण गाजियाबाद में सुबह सवा सात बजे के करीब दोनों को उतारा गया,तब जीआरपी के दरोगा संजय सिंह ने दोनों को अस्पताल में भर्ती कराया,जहां उसके होश आने का इंतजार है। सीओ जीआरपी एचके मिश्र ने बताया कि जीआरपी के जवानों ने दोनों को जान बचाइ है,क्योंकि दोनों रात भर से ही बेहोश थे। उन्होंेने बताया कि रिपोर्ट दर्ज कर केस को अंबाला ट्रांसफर किया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ऊना एक्स.में जहरखुरानों ने मां-बेटे को लूटा