DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

..न चााने क्यों मुझे वो आदमी भला सा लगा

इरम डिग्री कालेा में सोमवार को प्रो. वली उल हक अंसारी और प्रो. शारिब रूदौलवी का सम्मान समारोह व मुशायरे का आयोन किया गया। मुशायर में प्रसिद्ध शायर हसन कमाल ने सुनाया-‘हर एक फाां से, हर एक शै सेोो खफा सा लगे, नोाने क्यों मुझे वो आदमी भला सा लगा’। अनवरोलालपुरी ने सुनाया- ‘अभी आँखों की शमाएँोल रही हैं, प्यारोिन्दा है, अभी मायूस मत होना बीमारोिन्दा है’। अनीस अन्सारी, हामिद बहराइची ने भी अपनी रचनाएँ सुनाईं। संचालन साबिरा हबीब ने किया।ड्ढr उधर, ऑल इण्डिया मीर अकादमी के तत्वावधान में सोमवार को शायर रामप्रकाश बेखुद का सम्मान और मुशायरा का आयोन किया गया। वरिष्ठ शायर मलिकाादा मांूर अहमद की अध्यक्षता में हुए मुशायर में उनके और बेखुद के अलावा शबनम नूरी, सांय मिश्र, रहमत लखनवी, रिावान फारुकी, राा भारती, मखमूर काकोरवी, राोश खर व अभिषेक शुक्ल ने रचनाएँ सुनाईं।ड्ढr काव्य समारोहड्ढr शिवरात्रि पर भारतीय प्राची साहित्य एवं सेवा संस्थान के संयोन में काव्य समारोह में कवियों ने अपनी रचनाएँ सुनाईं। पवनपुरी आलमबाग स्थित संस्था के मुख्यालय पर हुए समारोह में रचनाकारों ने विभिन्न कवियों की काव्यगत विशेषताओं पर चर्चा की। संस्थान के अध्यक्ष डॉ. सुरेश प्रकाश शुक्ल ने बताया कि मातृ भाषा को प्रतिष्ठित करने के लिए ऐसे आयोनोरूरी हैं। कार्यक्रम में श्रीकृष्ण अखिलेश, ब्रामोहन यादव,वेद प्रकाश ओझा आदि ने काव्य पाठ किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: ..न चााने क्यों मुझे वो आदमी भला सा लगा