बिना कड़ी मेहनत सब पा लेना चाहती है जनरेशन वाई - बिना कड़ी मेहनत सब पा लेना चाहती है जनरेशन वाई DA Image
14 नबम्बर, 2019|7:10|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिना कड़ी मेहनत सब पा लेना चाहती है जनरेशन वाई

बिना कड़ी मेहनत सब पा लेना चाहती है जनरेशन वाई

अस्सी के दशक के अंतिम समय में पैदा (जनरेशन वाई) हुए लोग नौकरी को अपने बिलों के भुगतान का जरिया समझते हैं तथा पुरानी पीढी की तुलना में अपने आराम के समय को ज्यादा महत्व देते हैं। अमेरिका के 16,507 लोगों पर कराये गये अध्ययन से पता चला है कि 1980 के दशक के अंतिम समय में पैदा हुये जनरेशन वाई के लोगों का मानना है कि उनका हिस्सा उन्हें मिले और वे मौज करें।

डेली मेल की रिपोर्ट के मुताबिक वर्तमान समय में युवा कामगार ऐसी नौकरी चाहते हैं जिसमें खूब पैसे मिले, रूतबा हो तथा घंटों काम की बजाय आराम के लिये भरपूर समय मिले। वे ऐसा काम चाहते हैं जिसमें आराम से काम करना हो तथा खूब छुट्टियां हों।
   
सर्वे के मुताबिक जनरेशन वाई के लोग ओवर टाइम काम करने के ज्यादा इच्छुक नहीं हैं। काम के मानकों में जो सबसे बड़ा परिवर्तन आया है, वह आराम के प्रति बढ़ती ललक है। जनरेशन वाई के लोग कठिन मेहनत बचते हैं लेकिन पैसा पूरा चाहते हैं। शोधकर्ताओं ने पाया कि जनरेशन वाई के लोग इंटरनेट युग में जी रहे हैं और अब तक की सभी पीढ़ियों की तुलना में तकनीकी रूप से सबसे ज्यादा वाकिफ हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बिना कड़ी मेहनत सब पा लेना चाहती है जनरेशन वाई