खाद्य मुद्रास्फीति हल्की घटकर 17.81 प्रतिशत, ईंधन की कीमतें बढ़ी - खाद्य मुद्रास्फीति हल्की घटकर 17.81 प्रतिशत, ईंधन की कीमतें बढ़ी DA Image
20 नबम्बर, 2019|11:48|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

खाद्य मुद्रास्फीति हल्की घटकर 17.81 प्रतिशत, ईंधन की कीमतें बढ़ी

खाद्य मुद्रास्फीति हल्की घटकर 17.81 प्रतिशत, ईंधन की कीमतें बढ़ी

खाद्य मुद्रास्फीति फरवरी के आखिरी सप्ताह में घटकर 17.81 प्रतिशत पर आ गई पर इसी दौरान बजट में शुल्कों की वृद्धि के चलते पेट्रोलियम उत्पादों के वर्ग की मंहगाई बढ़ गई।

विशेषज्ञों का मानना है कि खाद्य कीमतें आने वाले सप्ताह में इसके और कम होने की उम्मीद है। लेकिन ईंधन की कीमतें बढ़ने से सकल वस्तुओं के थोक मूल्य सूचकांक पर आधारित मुद्रास्फीति मार्च में दस प्रतिशत से ऊपर जा सकती है।

गुरुवार को जारी सरकारी आंकड़ों के अनुसार 27 फरवरी को समाप्त सप्ताह के दौरान खाद्य मुद्रास्फीति 0.06 प्रतिशत की गिरावट के साथ 17.81 प्रतिशत पर आ गई। इससे पिछले सप्ताह यह 17.87 प्रतिशत थी।

आवश्यक खाद्य वस्तुएं अब भी मंहगी हैं। सरकारी आंकड़ों के अनुसार दालें आलोच्य सप्ताह में पिछले वर्ष इसी समय की तुलना में 33.38 प्रतिशत मंहगी रहीं जबकि एक सप्ताह पूर्व दालों के भाव वार्षिक आधार पर 35 प्रतिशत ऊपर चल रहे थे। इसी दौरान आलू 22.46 प्रतिशत मंहगा रहा और प्याज 2.98 प्रतिशत मंहगी रही।

विशेषज्ञों ने कहा कि यदि खाद्य मुद्रास्फीति में गिरावट का रुख जारी रहता है तो इससे सरकार के इस भरोसे को बल मिलेगा कि कीमतें अप्रैल से घटने लगेंगी। लेकिन बहुत कुछ रबी की फसल पर निर्भर करेगा।

क्रिसिल के मुख्य अर्थशास्त्री डीके जोशी ने कहा कि खाद्य मुद्रास्फीति कमेगी। हालांकि ईंधन और विनिर्मित उत्पादों के दाम बढ़ेंगे। इसलिए भी बढ़ेंगे कि पिछले साल मुद्रास्फीति निम्न स्तर पर थी। उन्होंने कहा कि मार्च के अंत तक सकल वस्तुओं के मूल्य सूचकांक पर आधारित मुद्रास्फीति 10 प्रतिशत पर पहुंच जाएगी।

वार्षिक आधार पर सब्जियों की कीमत 15.61 प्रतिशत बढ़ी है। दूध 15.31 प्रतिशत और फल 11.77 प्रतिशत मंहगे हुए हैं। बजट में पेट्रोल और डीजल पर उत्पाद और सीमा शुल्क में बढ़ोतरी की घोषणा के कारण पेट्रोल के दाम छह प्रतिशत और डीजल के दाम आठ प्रतिशत बढ़े हैं।

सालाना स्तर पर पेट्रोल की कीमत 16.82 प्रतिशत और डीजल की कीमत 15.27 प्रतिशत बढ़ी है। विश्लेषकों ने कहा कि खाद्य कीमतें अप्रैल तक घटने लगेंगी। उस समय तक रबी की फसल बाजार में आ जाती है। साप्ताहिक आधार पर पोल्ट्री की मुर्गी सात प्रतिशत मंहगी हुई जबकि जौ, दूध, फल और सब्जियां एक-एक प्रतिशत मंहगे हुए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:खाद्य मुद्रास्फीति हल्की घटकर 17.81 प्रतिशत, ईंधन की कीमतें बढ़ी