ऑनलाइन दसवीं क्लास - ऑनलाइन दसवीं क्लास DA Image
17 नबम्बर, 2019|12:33|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ऑनलाइन दसवीं क्लास

अब आप डेनमार्क में भी दसवीं ऑनलाइन से कर सकते हैं यानी स्कूल में जबर्दस्ती आने की जरूरत नहीं है। कोपेनहेगन के मशहूर ओरेस्ताद सेकेंडरी स्कूल ने दसवीं क्लास को ऑनलाइन करने का फैसला कर लिया है। यहां पर कई कोर्स हैं जिन्हें ऑनलाइन किया जा सकता है। डिस्टैंस लर्निंग उस मायने में कोई नया विचार नहीं है, लेकिन दसवीं और बारहवीं के लिए स्कूल में जा कर पढ़ना जरूरी है। हालांकि अभी उसे शिक्षा विभाग की मंजूरी चाहिए। वह मिल ही जाएगी। स्कूल के प्रिंसिपल एलन एंडरसन का कहना है कि वे चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा बच्चे पढ़ें। उनका पढ़ना ज्यादा जरूरी है बजाय उनके स्कूल आने के। यह सचमुच कमाल का फैसला है। इस देश में यों साक्षरता की दर काफी बेहतर है। शिक्षा का स्तर भी अच्छा-खासा है। उस सबके बावजूद ऐसे छात्र हैं जो पढ़ना चाहते हैं, पर स्कूल नहीं जा सकते। अब इन बच्चों को दूर रह कर भी स्तरीय शिक्षा दी जा सकेगी। ओरेस्ताद स्कूल की इस पहल का स्वागत होना चाहिए।
कोपेनहेगन पोस्ट

मसला खाड़ी पर कब्जा है
अमेरिका और ईरान क्यों एक दूसरे को दुश्मन मान कर चल रहे हैं? क्या दोनों देशों के बीच बिगड़ते रिश्तों की वजह ईरान का एटमी कार्यक्रम है? अमेरिका के पूर्व विदेश मंत्री हेनरी किसिंजर तो दो-तीन साल पहले ही मान चुके हैं कि दोनों देशों के बीच गड़बड़ी खाड़ी के देशों की वजह से है। दोनों उन पर नियंत्रण चाहते हैं। कहने को ईरान की चाहत है कि खाड़ी में विदेशी ताकतें काबिज न हो जाएं। लेकिन उसकी वजह तेल के भंडार ही हैं। अमेरिका अपना कब्जा चाहता है। सीधे कह नहीं सकता। इसीलिए वह ईरान और एटमी कार्यक्रम को निशाना बना कर खाड़ी पर अपनी दादागीरी चाहता है।
गल्फ न्यूज, दुबई

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ऑनलाइन दसवीं क्लास