DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इलाहाबाद के डीआईओएस हटाए गए, यौन उत्पीड़न का आरोप

महिलाओं के यौन उत्पीड़न और अभद्र भाषा का प्रयोग करने के आरोपों में फंसे जिला विद्यालय निरीक्षक राजकुमार यादव को आखिरकार बुधवार को हटा दिया गया। इलाहाबाद में ही बीएसए रहे राजकुमार को फिलहाल कोई तैनाती नहीं मिली है और उन्हें माध्यमिक शिक्षा निदेशक के शिविर कार्यालय लखनऊ से संबद्ध किया गया है। संयुक्त सचिव अनिल कुमार बाजपेयी की ओर से बुधवार को जारी आदेश में कहा गया है कि संयुक्त विकास आयुक्त, जेडी व एडी बेसिक की जांच आख्या के क्रम में आगे की जांच सचिव बेसिक शिक्षा परिषद संजय सिन्हा कर रहे हैं।

याचिका पर 19 अक्तूबर को सुनवाई में डीआईओएस राजकुमार  के खिलाफ शिक्षिकाओं के यौन शोषण के आरोपों को गंभीरता से लेते हुए हाईकोर्ट ने सरकार से पूछा था कि तो उन्हें अब तक सस्पेंड क्यों नहीं किया गया और यौन शोषण की एफआईआर क्यों नहीं दर्ज की गई।

पढ़े : मानदेय बढ़ाने की मांग को लेकर 5 रसोइयों ने लगाई नदी में छलांग

मुख्य न्यायमूर्ति डीबी भोसले एवं न्यायमूर्ति यशवंत वर्मा की खंडपीठ ने कार्रवाई के लिए 24 अक्तूबर तक का समय दिया था। 24 अक्तूबर को सुनवाई के दौरान कार्रवाई पर असंतोष जताया। जांच जारी होने की बात पर कोर्ट ने कहा कि जांच और विवेचना में अंतर है। कोर्ट जांच करके बरी करने की अनुमति नहीं दे सकती। यौन उत्पीड़न की शिकायत हुई है, प्राथमिकी दर्ज कर विवेचना की जानी चाहिए। इस मामले की सुनवाई गुरुवार को होनी है। सुनवाई से ठीक पहले शासन ने कार्रवाई कर दी।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:allahabad dios dismissed because of sexual harassment case