DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अलाव के फोटो एसडीएम को रोज करने होंगे व्हाटसएप

शहर में कहां-कहां अलाव जल रहे हैं, उन पर लोग ताप भी रहे हैं या नहीं, या अलाव की लकड़ी को कोई निजी उपयोग में तो नहीं ले रहा है। इसे लेकर उप जिलाधिकारियों को व्हाट्सअप पर प्रमाण देना होना। सभी एसडीएम मोबाइल से अपने क्षेत्र में जलाए जा रहे अलाव के फोटो खींचकर एडीएम (वित्त एवं राजस्व) को भेजेंगे।

गरीब, बेसहारा और असहाय लोगों को ठंड से बचाने के लिए शासन ने 27.5 लाख रुपये जनपद को अलाव और कंबल वितरण को भेजा है। इस पैसे में से अलाव जलवाने को 2.5 लाख रुपये की धनराशि खर्च की जाएगी। इसमें हर तहसील के तहसीलदारों को 5-5 लाख रुपये के कंबल दिए जाएंगे। हालांकि अलाव जलवाने की पूरी जिम्मेदारी संबंधित एसडीएम को होगी। इसके लिए जिलाधिकारी नितिन बंसल ने प्रावधान किया है कि सभी एसडीएम अपने क्षेत्रों में जल रहे अलावों की फोटो खींचकर व्हाट्सअप से एडीएम वित्त रवींद्र कुमार को भेजेंगे। इससे जनता को अलाव जलाने की कार्ययोजना को बेहतर तरीके से क्रियान्वयन में आसानी होगी।

कंबल का सैंपल गाजियाबाद भेजा

कंबल वितरण को शासन ने 25 लाख रुपये की धनराशि भी भेजी गई है। इस धनराशि से कंबल खरीदे जाएंगे और हर तहसील का तकरीबन 5-5 लाख रुपये के कंबल गरीब लोगों को वितरण को दिए जाएंगे। कंबल को जिन फर्मों की ओर से आवेदन किया गया था, उनके सैंपल गाजियाबाद भेजे गए हैं। यदि कंबल की क्वालिटी अच्छी मिली, तभी उस फर्म से कंबल मंगवाए जाएंगे।

स्थान चिन्हित कर अलाव जलवाने का काम प्रारंभ हो चुका है। जल्द ही कंबल भी वितरित किए जाएंगे

नितिन बंसल, जिलाधिकारी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:SDM must Whatsapp bonfire Photo