अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

निर्माण काम में लगे मजदूरों के एक लाख बच्चों को वजीफा मिलेगा

निर्माण काम में  लगे मजदूरों के दिल्ली सरकार और एमसीडी स्कूलों में पढ़ रहे एक लाख बच्चों को वजीफा मिलेगा। इसके लिए दिल्ली भवन व अन्य निर्माण मजदूर कोष से एक बड़ी राशि शिक्षा विभाग को ट्रांसर्फर की जाएगी। समझा जाता है कि सरकार ने राजधानी में राष्ट्रमंडल खेलों व अन्य अहम प्रोजेक्ट्स में खासी संख्या में निर्माण मजदूरों की संख्या को देखते हुए यह फैसला लिया है।

मुख्यमंत्री शीला दीक्षित की अध्यक्षता में शनिवार को उनके निवास पर एक उच्चस्तरीय बैठक में यह फैसला लिया गया। इसमें निर्माण मजदूरों और उनके परिजनों को राजधानी में मिलने वाली प्रमुख सुविधाओं को सुचारु बनाने का फैसला भी लिया गया। निर्माण मजदूरों के लिए चिकित्सा सुविधा और खतरनाक बीमारियों के मामले में वित्तीय सहायता देने की प्रक्रिया को आसान भी बना दिया गया है। बैठक में श्रम मंत्री मंगत राम सिंघल, शिक्षामंत्री अरविन्दर सिंह लवली, स्वास्थ्य मंत्री किरण वालिया, मुख्य सचिव राकेश मेहता, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव पी.के.त्रिपाठी और इन विभागों के आला अफसर मौजूद थे।

मुख्यमंत्री ने दिल्ली भवन और अन्य निर्माण मजदूर कल्याण कोष में जमा राशि के तत्काल सदुपयोग की जरूरत पर बल दिया ताकि मजदूरों को शिक्षा और चिकित्सा सेवा की सुविधाएं तय की जा सकें। यह भी तय किया गया कि शिक्षा विभाग को एक बड़ी राशि ट्रांसर्फर की जाएगी ।

इससे एक लाख बच्चों को फायदा होगा और स्कूल फिर से खुलने पर जुलाई महीने से वजीफा मिलने लगेगा। मुख्यमंत्री ने स्वास्थ्य विभाग को निर्देश दिए हैं कि निर्माण मजदूरों और उनके आश्रितों के फायदे के लिए 20 मोबाइल डिस्पेंसरी तैयार की जाए जिसमें जरूरी दवाएं और आम बीमारियों के इलाज की  व्यवस्था होगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:HH