अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सरकार राजधानी से पोलियों को जड़ से मिटाने के लिए कटिबद्ध है सरकार

सरकार राजधानी से पोलियों को जड़ से मिटाने के लिए कटिबद्ध है और इसके लिए हरसंभव कदम उठाए जा रहे हैं। सरकार की कोशिश है कि पोलियो का वायरस राजधानी में घुसने नहीं पाए।


मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने शनिवार को अपने निवास स्थान पर एक और पल्स पोलियो अभियान की शुरुआत की। उन्होंने इस साल पोलियो के दो मामले सामने आने पर चिंता जताई। उन्होंने कहा कि ऐसी आशंका है कि अन्य राज्यों से लोगों की लगातार आवाजाही की वजह से शायद पोलियों का वायरस राजधानी में घुसा है।


 मुख्यमंत्री ने अभिभावकों से आग्रह किया है कि वह अपने पांच साल से कम उम्र के बच्चों को पोलियों की दवा जरुर पिलवाएं। उन्होंने कहा कि इस साल देश में पोलियों के 49 मामले सामने आए हैं जबकि पिछले साल यह संख्या 5५८ थी। श्रीमती दीक्षित ने कहा कि देश को मजबूत बनाने के लिए बच्चों का स्वस्थ और मजबूत होना बहुत जरुरी है और यह लक्ष्य केवल पल्स पोलियों अभियान को सफल बनाकर हासिल किया जा सकता है। दिल्ली में पल्स पोलियों अभियान की शुरुआत 19८4 में हुई थी।


राज्य सरकार ने पल्स पोलियों अभियान के लिए व्यापक प्रबंध किए हैं और उसका लक्ष्य 25 लाख से अधिक बच्चों को पोलियों की ड्राप पिलाने  का है।


 अभियान के दौरान पोलियों अभियान में जुटे कर्मी 48 लाख से अधिक घरों तक जाएंगे। पोलियों की दवा पिलाने के लिए रेलवे स्टेशन, अंतरराज्ईय बस अड्डों, मेट्रो स्टेशनों, दिल्ली में प्रवेश करने वाले प्रमुख रास्तों के चैक पोस्टों, गुरुद्वारा और चिडियाघर आदि पर प्रबंध किए गए हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:HH