अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ममता को रेल और प्रणव को वित्त मंत्रालय

ममता को रेल और प्रणव को वित्त मंत्रालय

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और उनकी नई कैबिनेट के 19 मंत्रियों के शपथ लेने के अगले ही दिन कुछ महत्वपूर्ण मंत्रालयों  के आवंटन की घोषणा शनिवार को कर दी गई।
 
एसएम कृष्णा नए विदेश मंत्री होंगे। संप्रग की पहली सरकार में विदेश मंत्री रहे और वित्त मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार संभाल चुके प्रणव मुखर्जी को वित्त मंत्री बनाया गया है।
 
मुंबई आतंकी हमलों के बाद तत्कालीन वित्त मंत्री पी चिदंबरम को गृहमंत्री बनाया गया था और मुखर्जी को वित्त मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार सौंपा गया था। राष्ट्रपति भवन के एक प्रवक्ता ने बताया कि चिदंबरम के पास गृह मंत्रालय बरकरार रहेगा जबकि एके एंटनी के पास रक्षा और शरद पवार को कृषि एवं खाद्य तथा सार्वजनिक वितरण मंत्रालय रहेगा।
 
प्रवक्ता ने बताया कि ममता बनर्जी को रेल मंत्रालय सौंपा गया है जो पूर्व संप्रग सरकार में रेल मंत्रालय राजद प्रमुख लालू प्रसाद के पास था । इस बार के लोकसभा चुनाव में ममता की तृणमूल कांग्रेस ने पश्चिम बंगाल में वाम मोर्चे को जबर्दस्त पटखनी दी और पार्टी के 19 सांसद जीते। जबकि बिहार में लालू की राजद औंधे मुंह गिर गई और उसके केवल चार उम्मीदवार ही जीत पाए। खुद लालू पाटलिपुत्र से चुनाव हार गये तो सारन से चुनाव जीते ।
 
पूर्व की संप्रग सरकार में शामिल लोजपा के राम विलास पासवान हाजीपुर से चुनाव हार गये और उनकी पार्टी इस चुनाव में खाता भी नहीं खोल पायी ।
 
कल शपथ लेने वाले कैबिनेट मंत्रियों में कृष्णा, ममता बनर्जी जैसे नये चेहरे शामिल थे तो अर्जुन सिंह और हंसराज भारद्वाज जैसे पुराने चेहरे गायब थे । जिन मंत्रियों को राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल ने शपथ दिलाई उनमें गुलाम नबी आजाद, वीरप्पा मोइली, जयपाल रेड्डी, मीरा कुमार, कमलनाथ, व्यालार रवि, मुरली देवड़ा, कपिल सिब्बल, अंबिका सोनी और सुशील कुमार शिन्दे शामिल हैं।
 
राजस्थान प्रदेश कांग्रेस प्रमुख सीपी जोशी ने केन्द्रीय मंत्री के रूप में पहली बार शपथ ली है जबकि पूर्व संप्रग सरकार में राज्य मंत्री रहे आनंद शर्मा और बीके हाण्डिक को प्रमोट कर कैबिनेट मंत्री का दर्जा दिया गया है।
 
मंगलवार को होने वाले मंत्रिमंडल विस्तार में कई युवा चेहरों को शामिल किये जाने की उम्मीद है। पहले बैच में भारद्वाज को शामिल नहीं किये जाने से अटकलें लगायी जा रही हैं कि सिब्बल को कानून मंत्री बनाया जाएगा लेकिन हो सकता है कि कैबिनेट विस्तार में भारद्वाज का नाम जुड़ जाए।
 
वीरप्पा मोइली को अर्जुन सिंह की जगह नया मानव संसाधन विकास मंत्री बनाया जा सकता है जबकि कमलनाथ को उनका पुराना वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय दिया जा सकता है ।
 
संसदीय कार्य मंत्री रह चुके आजाद को फिर से यही मंत्रालय दिये जाने की चर्चा है। पहली संप्रग सरकार में प्रवासी भारतीय मंत्री रहे व्यालार रवि और सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री रहीं मीरा कुमार को उनके मंत्रालयों का ही कामकाज फिर से सौंपे जाने की संभावना है ।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:एजेंसी