DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सोनिया की मद्द मांगेंगे संकट में फंसे विजय बहुगुणा

उत्तराखंड में चार दिन पुरानी कांग्रेस सरकार के गंभीर संकट में फंसने के बीच राज्य में मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा पार्टी प्रमुख सोनिया गांधी के हस्तक्षेप के लिए शनिवार को दिल्ली रवाना हुए।
 
सोनिया से उनके मुलाकात का कार्यक्रम कांग्रेस के 17 विधायकों के शपथ ग्रहण करने से इनकार के एक दिन बाद बना है। इन 17 में से अधिकतर विधायक केंद्रीय मंत्री हरीश रावत के समर्थक हैं और इन लोगों ने बहुगुणा के मुख्यमंत्री पद पर चयन को लेकर अपना विरोध जताने के लिए शपथ ग्रहण नहीं किया।   
    
वरिष्ठ पार्टी नेता हरक सिंह रावत और इंदिरा हृदयेश भी शपथ ग्रहण समारोह में अनुपस्थित थे। ऐसा समझा जाता है कि इन दोनों ने भी रावत को अपना समर्थन दिया है। 70 सदस्यीय विधानसभा में कांग्रेस के 32 विधायक हैं तथा तीन निर्दलीय, बसपा के तीन विधायकों तथा यूकेडी के एक विधायक की मदद से पार्टी ने 39 की संख्या पूरी की।
 
राज्य में मुख्यमंत्री का चयन सत्ताधारी पार्टी में आंतरिक कलह के चलते विलंबित हुआ क्योंकि अलग अलग धड़े अपने स्वयं के उम्मीदवार का समर्थन कर रहे थे। कई दिन के असमंजस की स्थिति के बाद बहुगुणा ने गत मंगलवार को शपथ ग्रहण कर लिया लेकिन इससे रावत और उनके समर्थक नाराज हो गए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सोनिया की मद्द मांगेंगे संकट में फंसे विजय बहुगुणा