DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पिछले चुनाव की तुलना में 14 प्रतिशत प्रत्याशी बढे़

उत्तर प्रदेश में 16वें विधानसभा चुनावों के लिए इस बार प्रत्याशियों की संख्या में चौदह प्रतिशत की वृद्धि हुई है। इस चुनाव में छह चरणों का मतदान गत मंगलवार पूरा हो चुका है जबकि अंतिम और सातवें चरण का मतदान तीन मार्च को होना है। राज्य के 75 जिलों की 403 विधानसभा सीटों के लिए इस बार 6838 प्रत्याशी मैदान में उतरे जबकि पिछले चुनाव में 6086 उम्मीदवार चुनाव मैदान में थे।

राज्य निर्वाचन कार्यालय से मिली सूचना के अनुसार इस बार महिला उम्मीदवारों की संख्या 582 है। राष्ट्रीय पार्टियों ने इन चुनावों में 1351 उम्मीदवार मैदान में उतारे। राज्य स्तर की पार्टियों ने 447 और पंजीकृत दलों के 3354 के अलावा 1687 निर्दलीय प्रत्याशी मैदान में हैं।

राष्ट्रीय पार्टियों ने 123 महिलाओं को टिकट दिया। राज्य स्तर की पार्टियों से 39 महिलाएं मैदान में उतरी जबकि पंजीकृत पार्टियों के 302 और निर्दलीय 118 महिलाएं मैदान में आईं।

छठे चरण में 68 सीटों पर हुए मतदान में महिलाओं की संख्या सबसे ज्यादा थी। कुल 1103 प्रत्याशियों में महिलाओं की संख्या 86 थी।

बसपा और सपा ने सभी 403 सीटों पर प्रत्याशी उतारे। भाजपा ने 398 और कांग्रेस ने 359 लोगों को टिकट दिया। भाजपा ने चार सीटें जनवादी पार्टी के लिए छोडी़ और एक सीट पर निर्दलीय को समर्थन दिया।

कांग्रेस ने अपने सहयोगी राष्ट्रीय लोकदल के साथ गठबंधन किया और उसके लिए 43 सीटें छोडीं। सोनभद्र के दुद्दी और मुजफ्फनगर की कैराना सीट से कांग्रेस प्रत्याशी का पर्चा खारिज हो गया। पिछले विधानसभा चुनाव में भी बसपा ने सभी 403 सीटों पर चुनाव लडा़ था और 206 सीटें जीतकर उसने सरकार बनाई थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पिछले चुनाव की तुलना में 14 प्रतिशत प्रत्याशी बढे़